Tuesday, July 17, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

प्राथमिक शिक्षक बनने के इच्छुक उम्मीदवारों को कोर्ट ने दी राहत, दूसरे राज्यों से डीएलएड करने वाले भी होंगे पात्र

अंग्वाल न्यूज डेस्क
प्राथमिक शिक्षक बनने के इच्छुक उम्मीदवारों को कोर्ट ने दी राहत, दूसरे राज्यों से डीएलएड करने वाले भी होंगे पात्र

नैनीताल। हाईकोर्ट ने राज्य में प्राथमिक शिक्षक बनने के लिए उत्तराखंड की डायट से ही डीएलएड की बाध्यता को असंवैधानिक बताया है। कोर्ट ने कहा है कि दूसरे प्रदेशों से डीएलएड करने वाले भी प्राथमिक शिक्षक के पात्र होंगे। बता दें कि अल्मोड़ा के एक याचिकाकर्ता की याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने यह फैसला सुनाया है। 

शिक्षाधिकारी की विज्ञप्ति को चुनौती

गौरतलब है कि अल्मोड़ा के हरीशचंद ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी जिसमें कहा गया था कि वह वाणिज्य से स्नातक हैं और दिल्ली से दो वर्षीय डीएलएड कर चुके हैं और 2011 में वह सीटीईटी भी पास कर चुके हैं। ऐसे में वह नियमानुसार प्राथमिक शिक्षक के पद के लिए योग्य हैं। आपको बता दें कि याचिकाकर्ता ने ऊधमसिंह नगर के जिला शिक्षा अधिकारी (बेसिक) द्वारा पिछले साल 4 अगस्त एवं जिला शिक्षा अधिकारी(बेसिक) नैनीताल द्वारा पिछले साल 21 अगस्त को जारी विज्ञप्ति को चुनौती दी थी।

ये भी पढ़ें - किडनी रैकेट में स्वास्थ्य विभाग का नया खुलासा, अस्पताल में ही होता था ट्रांसप्लांट


याचिकाकर्ता के पक्ष में फैसला

यहां यह भी बता दें कि हरीशचंद ने कोर्ट को यह भी बतताया कि सरकार उन लोगों को ही योग्य मान रही है जिन्होंने प्रदेश के डायट से दो सालों की बीटीसी या डीएलएड किया हो। याचिका में कहा गया है कि राज्य के बाहर से डीएलएड करने वाले को प्रदेश सरकार द्वारा अयोग्य मानना शिक्षा के अधिकार का उल्लंघन है। कोर्ट ने दोनों पक्षों की दलील सुनने के बाद याचिकाकर्ता के पक्ष में फैसला सुनाया। एकल पीठ ने याचिकाकर्ता को प्राथमिक शिक्षक के पद पर नियुक्ति के लिए योग्य करार देते हुए सरकार को आदेश दिया कि वह याचिकाकर्ता को पात्र माने। 

 

Todays Beets: