Monday, September 25, 2017

Breaking News

   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||   पंचकूला से लंदन तक दिखा राम-रहीम विवाद का असर, ब्रिटेन ने जारी की एडवाइजरी    ||   PAK कोर्ट ने हिंदू लड़की को मुस्लिम पति के साथ रहने की मंजूरी दी    ||   बिहार आए पीएम मोदी, बाढ़ से हुई तबाही की गहन समीक्षा की    ||   जेल में ही वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए राम रहीम को सुनाई जाएगी सजा    ||   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||

प्राथमिक शिक्षक बनने के इच्छुक उम्मीदवारों को कोर्ट ने दी राहत, दूसरे राज्यों से डीएलएड करने वाले भी होंगे पात्र

अंग्वाल न्यूज डेस्क
प्राथमिक शिक्षक बनने के इच्छुक उम्मीदवारों को कोर्ट ने दी राहत, दूसरे राज्यों से डीएलएड करने वाले भी होंगे पात्र

नैनीताल। हाईकोर्ट ने राज्य में प्राथमिक शिक्षक बनने के लिए उत्तराखंड की डायट से ही डीएलएड की बाध्यता को असंवैधानिक बताया है। कोर्ट ने कहा है कि दूसरे प्रदेशों से डीएलएड करने वाले भी प्राथमिक शिक्षक के पात्र होंगे। बता दें कि अल्मोड़ा के एक याचिकाकर्ता की याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने यह फैसला सुनाया है। 

शिक्षाधिकारी की विज्ञप्ति को चुनौती

गौरतलब है कि अल्मोड़ा के हरीशचंद ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी जिसमें कहा गया था कि वह वाणिज्य से स्नातक हैं और दिल्ली से दो वर्षीय डीएलएड कर चुके हैं और 2011 में वह सीटीईटी भी पास कर चुके हैं। ऐसे में वह नियमानुसार प्राथमिक शिक्षक के पद के लिए योग्य हैं। आपको बता दें कि याचिकाकर्ता ने ऊधमसिंह नगर के जिला शिक्षा अधिकारी (बेसिक) द्वारा पिछले साल 4 अगस्त एवं जिला शिक्षा अधिकारी(बेसिक) नैनीताल द्वारा पिछले साल 21 अगस्त को जारी विज्ञप्ति को चुनौती दी थी।

ये भी पढ़ें - किडनी रैकेट में स्वास्थ्य विभाग का नया खुलासा, अस्पताल में ही होता था ट्रांसप्लांट


याचिकाकर्ता के पक्ष में फैसला

यहां यह भी बता दें कि हरीशचंद ने कोर्ट को यह भी बतताया कि सरकार उन लोगों को ही योग्य मान रही है जिन्होंने प्रदेश के डायट से दो सालों की बीटीसी या डीएलएड किया हो। याचिका में कहा गया है कि राज्य के बाहर से डीएलएड करने वाले को प्रदेश सरकार द्वारा अयोग्य मानना शिक्षा के अधिकार का उल्लंघन है। कोर्ट ने दोनों पक्षों की दलील सुनने के बाद याचिकाकर्ता के पक्ष में फैसला सुनाया। एकल पीठ ने याचिकाकर्ता को प्राथमिक शिक्षक के पद पर नियुक्ति के लिए योग्य करार देते हुए सरकार को आदेश दिया कि वह याचिकाकर्ता को पात्र माने। 

 

Todays Beets: