Friday, January 19, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

प्राथमिक शिक्षक बनने के इच्छुक उम्मीदवारों को कोर्ट ने दी राहत, दूसरे राज्यों से डीएलएड करने वाले भी होंगे पात्र

अंग्वाल न्यूज डेस्क
प्राथमिक शिक्षक बनने के इच्छुक उम्मीदवारों को कोर्ट ने दी राहत, दूसरे राज्यों से डीएलएड करने वाले भी होंगे पात्र

नैनीताल। हाईकोर्ट ने राज्य में प्राथमिक शिक्षक बनने के लिए उत्तराखंड की डायट से ही डीएलएड की बाध्यता को असंवैधानिक बताया है। कोर्ट ने कहा है कि दूसरे प्रदेशों से डीएलएड करने वाले भी प्राथमिक शिक्षक के पात्र होंगे। बता दें कि अल्मोड़ा के एक याचिकाकर्ता की याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने यह फैसला सुनाया है। 

शिक्षाधिकारी की विज्ञप्ति को चुनौती

गौरतलब है कि अल्मोड़ा के हरीशचंद ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी जिसमें कहा गया था कि वह वाणिज्य से स्नातक हैं और दिल्ली से दो वर्षीय डीएलएड कर चुके हैं और 2011 में वह सीटीईटी भी पास कर चुके हैं। ऐसे में वह नियमानुसार प्राथमिक शिक्षक के पद के लिए योग्य हैं। आपको बता दें कि याचिकाकर्ता ने ऊधमसिंह नगर के जिला शिक्षा अधिकारी (बेसिक) द्वारा पिछले साल 4 अगस्त एवं जिला शिक्षा अधिकारी(बेसिक) नैनीताल द्वारा पिछले साल 21 अगस्त को जारी विज्ञप्ति को चुनौती दी थी।

ये भी पढ़ें - किडनी रैकेट में स्वास्थ्य विभाग का नया खुलासा, अस्पताल में ही होता था ट्रांसप्लांट


याचिकाकर्ता के पक्ष में फैसला

यहां यह भी बता दें कि हरीशचंद ने कोर्ट को यह भी बतताया कि सरकार उन लोगों को ही योग्य मान रही है जिन्होंने प्रदेश के डायट से दो सालों की बीटीसी या डीएलएड किया हो। याचिका में कहा गया है कि राज्य के बाहर से डीएलएड करने वाले को प्रदेश सरकार द्वारा अयोग्य मानना शिक्षा के अधिकार का उल्लंघन है। कोर्ट ने दोनों पक्षों की दलील सुनने के बाद याचिकाकर्ता के पक्ष में फैसला सुनाया। एकल पीठ ने याचिकाकर्ता को प्राथमिक शिक्षक के पद पर नियुक्ति के लिए योग्य करार देते हुए सरकार को आदेश दिया कि वह याचिकाकर्ता को पात्र माने। 

 

Todays Beets: