Saturday, December 16, 2017

Breaking News

   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद     ||   अश्विन ने लगाया विकेटों का सबसे तेज 'तिहरा शतक', लिली को छोड़ा पीछे     ||   पूरा हुआ सपना चौधरी का 'सपना', बेघर होने के साथ बॉलीवुड से मिला बड़ा ऑफर    ||   PAK सरकार ने शर्तें मानीं, प्रदर्शन खत्म करने कानून मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा    ||   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||

पर्यावरण संरक्षण के नाम पर गोरखधंधा करने वाले एनजीओ पर कसेगा शिकंजा, वन विभाग कर रहा तैयारी 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पर्यावरण संरक्षण के नाम पर गोरखधंधा करने वाले एनजीओ पर कसेगा शिकंजा, वन विभाग कर रहा तैयारी 

देहरादून। राज्य में वन एवं पर्यावरण संरक्षण के नाम पर काम करने वाले गैर सरकारी संगठनों (एनजीओ) पर वन विभाग शिकंजा कसने की तैयारी कर रहा है। संगठनों से इस सिलसिले में कई बिन्दुओं पर जवाब मांगे गए हैं। संतोषजनक जवाब न देने वाले एनजीओ को प्रतिबंधित किया जा सकता है। इसके लिए इस क्षेत्र में काम करने वाले एनजीओ को नोटिस भेजे जा रहे हैं। 

जवाब न देने वालों पर लगेगा प्रतिबंध

गौरतलब है कि उत्तराखंड का आधा से ज्यादा भूभाग जंगलों से भरा है। ऐसे में इस क्षेत्र में काम करने वाले गैर सरकारी संगठनों की संख्या भी काफी है लेकिन ज्यादातर संगठन सिर्फ फायदा उठाने के मकसद से काम कर रहे हैं। इसे देखते हुए राज्य का वन विभाग अब सक्रिय हो गया है और सही ढंग से काम न करने वाले एनजीओ को प्रतिबंधित करने की तैयारी कर रहा है। इस सिलसिले में पिछले 5 सालों से काम करने वाले संगठनों से 6 बिन्दुओं पर सवाल पूछे गए हैं। बता दें कि पिछले तीन महीने के दौरान अब तक छह बड़े एनजीओ को नोटिस भेजे गए हैं लेकिन उनमें से 3 ने अभी तक कोई जवाब नहीं दिया है। विभाग के मुताबिक ब्योरा न देने वाले एनजीओ पर राज्य में प्रतिबंध लगाया जाएगा। 

ये भी पढ़ें - एलटी संवर्ग शिक्षकों को राज्य सरकार ने दिया तोहफा, 1700 शिक्षकों की होगी पदोन्नती

जानवरों के अंगों की तस्करी

आपको बता दें कि वन और पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में काम करने वाले एनजीओ पर सालों से सवाल उठते रहे हैं। इस क्षेत्र में काम करने वाले 50 हजार से ज्यादा एनजीओ राज्य में पंजीकृत हैं। इसके बावजूद कुछ को छोड़कर इस क्षेत्र में इनकी सक्रिय भागीदारी नजर नहीं आती। वन विभाग के अधिकारियों को इस बात का पता चला कि जंगलों में वन्य जीवों के अंगों की झूठी मांग पैदा की जा रही है। इन क्षेत्रों में वन्यजीवों की खाल व अंग पकड़वाने के एवज में मोटी रकम का लालच दिया जाता है।

 

इन बिन्दुओं पर मांगी जानकारी


-परियोजना का नाम

-राज्य के मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक की अनुमति का विवरण

-वित्तीय पोषण देने वाले संस्थान का नाम

-परियोजना के लिए स्वीकृत राशि

-अब तक व्यय राशि

-शोध-क्रियान्वयन को उत्तरदायी व्यक्ति

 

Todays Beets: