Monday, July 23, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

बद्रीनाथ यात्रा पर जाने वालों को मिलेगा ‘हिमालयी ऊंट’ की सवारी का मौका, स्वरोजगार को मिलेगा बढ़ावा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बद्रीनाथ यात्रा पर जाने वालों को मिलेगा ‘हिमालयी ऊंट’ की सवारी का मौका, स्वरोजगार को मिलेगा बढ़ावा

देहरादून। चारधाम की यात्रा पर जाने वालों को इस बार ‘हिमालयी ऊंट’ यानी की याक की सवारी का आनंद मिलेगा। चमोली के पशुपालन विभाग ने प्रदेश में याक पालन को बढ़ावा देने और युवाओं को रोजगार से जोड़ने के मकसद से बद्रीनाथ यात्रा के दौरान याक की सेवा शुरू करने का फैसला लिया है। फिलहाल इस पायलट प्रोजेक्ट के लिए एक याक से शुरुआत की जा रही है लेकिन विभाग का कहना है कि अगर यह सफल रहता है तो इसे बड़े स्तर पर शुरू किया जा सकता है। 

गौरतलब है कि चमोली के पशुपालन विभाग की तरफ से शुरू की जा रही योजना अगर सफल रही तो जल्द ही आप याक की सवारी के जरिए प्रदेश की खूबसूरती का दीदार कर पाएंगे।  विभाग के अनुसार 1962 में चीन से लड़ाई के बाद तिब्बत से याक का एक झुंड भारत की सीमा में आ गया जिसके सेना ने इसे जिला प्रशासन को दे दिया और यहां के लोगों ने उसकी देखभाल शुरू कर दी। 

ये भी पढ़ें - सरकार के अधिकारी ही तोड़ रहे नियम, रोकने पर गाड़ी अड़ाकर चल दिए


बता दें कि विभाग की ओर से योजना के संचालन के लिए जोशीमठ क्षेत्र के गणेशनगर निवासी बृजमोहन को याक उपलब्ध कराया गया है। मुख्य पशुपालन अधिकारी डाॅक्टर लोकेश कुमार का कहना है कि यदि इस साल बद्रीनाथ में याक की सवारी योजना सफल रही तो याकों की संख्या बढ़ाकर इसे स्वरोजगार से जोड़ा जाएगा।  

मौजूदा समय में जिले में 13 याक (5 नर व 8 मादा) हैं, जो शीतकाल में सुरांईथोटा और ग्रीष्मकाल में द्रोणागिरी गांव के उच्च हिमालयी क्षेत्र में रहते हैं। उत्तराखंड के चमोली, पिथौरागढ़ और उत्तरकाशी में 67 याक हैं। गौर करने वाली बात है कि याक हिमालयी क्षेत्र में समुद्र तल से 8000 फीट की ऊंचाई पर पाया जाने वाला पशु है। 15 से 20 दिन तक याक बर्फ खाकर भी जीवित रह सकता है,  इसी वजह से इसे हिमालय का ऊंट भी कहा जाता है।

Todays Beets: