Thursday, April 26, 2018

Breaking News

   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||   रेलवे की 90 हजार नौकरियों के आवेदन की आज लास्ट डेट, दो करोड़ 80 लाख कर चुके हैं अप्लाई     ||   कांग्रेस में बड़ा बदलाव: जनार्दन द्विवेदी की छुट्टी, गहलोत बने नए AICC महासचिव     ||   भारत ने चीन की तिब्बत सीमा पर भेजे और सैनिक, गश्त भी बढ़ाई     ||   अब कॉल सेंटर की नौकरियों पर नजर, अमेरिकी सांसद ने पेश किया बिल     ||   ब्लूमबर्ग मीडिया का दावा, 2019 छोड़िए 2029 तक पीएम रहेंगे नरेंद्र मोदी     ||   फेसबुक को डेटा लीक मामले से लगा तगड़ा झटका, 35 अरब डॉलर का नुकसान     ||

बद्रीनाथ यात्रा पर जाने वालों को मिलेगा ‘हिमालयी ऊंट’ की सवारी का मौका, स्वरोजगार को मिलेगा बढ़ावा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बद्रीनाथ यात्रा पर जाने वालों को मिलेगा ‘हिमालयी ऊंट’ की सवारी का मौका, स्वरोजगार को मिलेगा बढ़ावा

देहरादून। चारधाम की यात्रा पर जाने वालों को इस बार ‘हिमालयी ऊंट’ यानी की याक की सवारी का आनंद मिलेगा। चमोली के पशुपालन विभाग ने प्रदेश में याक पालन को बढ़ावा देने और युवाओं को रोजगार से जोड़ने के मकसद से बद्रीनाथ यात्रा के दौरान याक की सेवा शुरू करने का फैसला लिया है। फिलहाल इस पायलट प्रोजेक्ट के लिए एक याक से शुरुआत की जा रही है लेकिन विभाग का कहना है कि अगर यह सफल रहता है तो इसे बड़े स्तर पर शुरू किया जा सकता है। 

गौरतलब है कि चमोली के पशुपालन विभाग की तरफ से शुरू की जा रही योजना अगर सफल रही तो जल्द ही आप याक की सवारी के जरिए प्रदेश की खूबसूरती का दीदार कर पाएंगे।  विभाग के अनुसार 1962 में चीन से लड़ाई के बाद तिब्बत से याक का एक झुंड भारत की सीमा में आ गया जिसके सेना ने इसे जिला प्रशासन को दे दिया और यहां के लोगों ने उसकी देखभाल शुरू कर दी। 

ये भी पढ़ें - सरकार के अधिकारी ही तोड़ रहे नियम, रोकने पर गाड़ी अड़ाकर चल दिए


बता दें कि विभाग की ओर से योजना के संचालन के लिए जोशीमठ क्षेत्र के गणेशनगर निवासी बृजमोहन को याक उपलब्ध कराया गया है। मुख्य पशुपालन अधिकारी डाॅक्टर लोकेश कुमार का कहना है कि यदि इस साल बद्रीनाथ में याक की सवारी योजना सफल रही तो याकों की संख्या बढ़ाकर इसे स्वरोजगार से जोड़ा जाएगा।  

मौजूदा समय में जिले में 13 याक (5 नर व 8 मादा) हैं, जो शीतकाल में सुरांईथोटा और ग्रीष्मकाल में द्रोणागिरी गांव के उच्च हिमालयी क्षेत्र में रहते हैं। उत्तराखंड के चमोली, पिथौरागढ़ और उत्तरकाशी में 67 याक हैं। गौर करने वाली बात है कि याक हिमालयी क्षेत्र में समुद्र तल से 8000 फीट की ऊंचाई पर पाया जाने वाला पशु है। 15 से 20 दिन तक याक बर्फ खाकर भी जीवित रह सकता है,  इसी वजह से इसे हिमालय का ऊंट भी कहा जाता है।

Todays Beets: