Friday, March 22, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

मुश्किलों में फंस सकते हैं शिक्षा अधिकारियों के खिलाफ भड़काऊ भाषण देने वाले शिक्षक नेता, हो सकती है कार्रवाई  

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मुश्किलों में फंस सकते हैं शिक्षा अधिकारियों के खिलाफ भड़काऊ भाषण देने वाले शिक्षक नेता, हो सकती है कार्रवाई  

देहरादून। उत्तराखंड में शिक्षकों और सरकार के बीच चल रही तनातनी अभी भी थमने का नाम नहीं ले रही है। सरकार पर मांगें न मानने का आरोप लगाने वाले राजकीय प्राथमिक शिक्षक संघ के महामंत्री दिग्विजय सिंह चौहान मुश्किलें बढ़ सकती हैं। इन दिनों उनका शिक्षकों के बीच शिक्षा अधिकारियों को लेकर दिया भड़काऊ भाषण वायरल हो रहा है। अब इस वीडियो को लेकर शिक्षा विभाग सख्त हो गया है और चौहान पर मुकदमा दर्ज कराने की तैयारी में जुट गया है। शुक्रवार को शिक्षा महानिदेशक कैप्टन आलोक शेखर तिवारी के साथ होने वाली बैठक में इस पर फैसला लिया जाएगा। 

गौरतलब है कि सोशल मीडिया में वायरल हो रहा राजकीय प्राथमिक शिक्षक संघ के महामंत्री का वीडियो 21 मई का है जब वे देहरादून के परेड ग्राउंड में प्रदर्शन कर रहे विशिष्ट बीटीसी वाले शिक्षकों को संबोधित कर रहे थे। महामंत्री ने अपने भाषण में एक जगह शिक्षकों से कहा कि वह परेशान करने वाले शिक्षा अधिकारी के कमरे को अंदर से बंद कर उन्हें चार-चार थप्पड़ लगाएं। इसके आगे उन्होंने कहा कि उत्तरप्रदेश के वक्त जिन अधिकारियों की औकात स्कूटर की नहीं थी वे भी आज कार पर चल रहे हैं। 

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड बोर्ड कल जारी करेगा 10वीं और 12वीं का रिजल्ट, परीक्षा परिणाम के लिए यहां कर सकेंगे क्लिक


यहां बता दें कि जब दिग्विजय सिंह से इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि ‘‘मैंने तो सिर्फ शिक्षकों की पीड़ा को बताया है।’’ उन्होंने कहा कि सरकार के द्वारा शिक्षकों की मांगों को लगातार अनसूना किया जा रहा है और उन्हें नीच दृष्टि से देखा जा रहा है। प्राथमिक शिक्षक संघ के महामंत्री के इस बयान पर शिक्षा अधिकारी संघ ने कड़ी आपत्ति जताते हुए कहा कि  कहा कि किसी के सम्मान के साथ खिलवाड़ करने की किसी को छूट नहीं दी जा सकती। एक संघ के जिम्मेदार पदाधिकारी इस प्रकार की बयानबाजी से शिक्षा अधिकारी असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। शिक्षा महानिदेशक से उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की जा रही है।  

Todays Beets: