Wednesday, November 14, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

रुड़की के जीनियस एजूकेशन प्वाइंट कोचिंग सेंटर पर डीएम ने मारा छापा, सभी दस्तावेज लिया कब्जे में

अंग्वाल न्यूज डेस्क
रुड़की के जीनियस एजूकेशन प्वाइंट कोचिंग सेंटर पर डीएम ने मारा छापा, सभी दस्तावेज लिया कब्जे में

रुड़की। रुड़की में छात्रों को इंजीनियरिंग की कोचिंग देने वाले एक बड़े कोचिंग संस्थान पर छापा मारा गया है। इस कोचिंग के 66 छात्रों के एक साथ ही उत्तराखंड पावर काॅरपोरेशन लिमिटेड के जेई की परीक्षा में चयन होने के बाद उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के आदेश पर जिलाधिकारी दीपक रावत ने छापेमारी की है। कोचिंग के दस्तावेजों को कब्जे में लेने के साथ कोचिंग के संचालक चंद्रशेखर तिवारी और वहां पढ़ने वाले छात्रों से पूछताछ की है। कोचिंग पर छापा पड़ने से छात्रों को अपने भविष्य की चिंता सताने लगी है। हालांकि डीएम की ओर से यह कहा गया है कि कोचिंग को बंद नहीं किया गया है। 

गौरतलब है कि रुड़की के मालवीय चौक स्थित जीनियस एजूकेशन प्वाइंट कोचिंग सेंटर में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कराई जाती है। पिछले साल उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग द्वारा यूपीसीएल के करीब 252 पदों के लिए परीक्षा का आयोजन किया गया था और इसमें इस कोचिंग के 66 बच्चों का चयन हो गया। इसके बाद बोर्ड से कुछ सांठगांठ का अंदेशा हुआ। ऐसे में आयोग ने डीएम को कोचिंग की जांच के आदेश दिए। 


ये भी पढ़ें - पेयजल योजना में हुआ 60 लाख रुपये का घोटाला, कागजों में 2015 में काम हुआ पूरा

आपको बता दें कि डीएम दीपक रावत ने जब इस कोचिंग पर छापा मारा तो यहां के शिक्षकों और छात्रों में हड़कंप मच गया। डीएम ने कोचिंग के कई दस्तावेजों को जब्त करने के साथ संचालक चंद्रशेखर तिवारी से पूछताछ की है। बता दें कि यूकेएसएससी की ओर से गत वर्ष 5 नवंबर को कराई गई यूपीसीएल जेई की परीक्षा में जिन 66 अभ्यर्थियों का चयन हुआ है, उनका रिकॉर्ड भी मांगा गया लेकिन कोचिंग सेंटर संचालक उनका कोई रिकॉर्ड नहीं दिखा पाए। इस पर जिलाधिकारी ने कोचिंग सेंटर संचालक को फटकार लगाई। साथ ही सेंटर में जितने भी रजिस्टर व अन्य दस्तावेज थे, उन्हें प्रशासनिक टीम ने जब्त कर लिया। कोचिंग के संचालक का कहना है सभी छात्रों का चयन उनकी मेहनत के बल पर हुआ है। उनकी कोचिंग को बदनाम करने की साजिश की जा रही है। 

Todays Beets: