Tuesday, March 26, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

केदारनाथ मंदिर के कपाट भक्तों के लिए हुए बंद, गद्दीस्थल में कर सकेंगे दर्शन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
केदारनाथ मंदिर के कपाट भक्तों के लिए हुए बंद, गद्दीस्थल में कर सकेंगे दर्शन

देहरादून। उत्तराखंड स्थित भगवान केदारनाथ मंदिर के कपाट शुक्रवार को सुबह 8 बजकर 30 मिनट पर शीतकाल के लिए बंद कर दिए गए। बद्री-केदार मंदिर समिति की ओर से पहले ही पूरी तैयारियां कर ली गई थीं। कपाट बंद होने के बाद भगवान की चल विग्रह उत्सव डोली शीतकालीन गद्दी स्थल ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ के लिए प्रस्थान कर चुकी है और रात्रि प्रवास के लिए रामपुर पहुंचेगी। 11 नवंबर को यह डोली अपने शीतकालीन पूजा स्थल में विराजमान होगी। 

गौरतलब है कि भगवान केदारनाथ को 11वां ज्योर्तिलिंग माना गया है। भाई-दूज के मौके पर केदारनाथ मंदिर के कपाट शीतकाल के लिए बंद कर दिए जाते हैं। बताया जा रहा है कि सुबह 4 बजे से ही मंदिर में विशेष पूजा-अर्चना शुरू कर दी गई थी। पूजा के बाद स्वयंभू ज्योतिर्लिंग को समाधि रुप देते हुए विशेष पूजा के साथ लिंग को भष्म से ढक दिया गया। 

ये भी पढ़ें - बाबा केदार के दर्शन करने उत्तराखंड पहुंचे पीएम, पूजा-अर्चना के बाद हर्षिल के लिए होंगे रवाना


बता दें कि परंपरा के अनुसार भगवान को भोग लगाने के बाद बाबा केदार की मूर्ति को मंदिर परिसर में भक्तों के दर्शन के लिए रखा गया। सभी धार्मिक औपचारिकताओं को पूरा करने के बाद मंदिर की चाबी प्रशासन और बद्री-केदार मंदिर समिति के अधिकारियों की मौजूदगी में उपजिलाधिकारी ऊखीमठ गोपाल सिंह चैहान को सौंप दी गई।  

Todays Beets: