Friday, November 16, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

केदारनाथ मंदिर के कपाट भक्तों के लिए हुए बंद, गद्दीस्थल में कर सकेंगे दर्शन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
केदारनाथ मंदिर के कपाट भक्तों के लिए हुए बंद, गद्दीस्थल में कर सकेंगे दर्शन

देहरादून। उत्तराखंड स्थित भगवान केदारनाथ मंदिर के कपाट शुक्रवार को सुबह 8 बजकर 30 मिनट पर शीतकाल के लिए बंद कर दिए गए। बद्री-केदार मंदिर समिति की ओर से पहले ही पूरी तैयारियां कर ली गई थीं। कपाट बंद होने के बाद भगवान की चल विग्रह उत्सव डोली शीतकालीन गद्दी स्थल ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ के लिए प्रस्थान कर चुकी है और रात्रि प्रवास के लिए रामपुर पहुंचेगी। 11 नवंबर को यह डोली अपने शीतकालीन पूजा स्थल में विराजमान होगी। 

गौरतलब है कि भगवान केदारनाथ को 11वां ज्योर्तिलिंग माना गया है। भाई-दूज के मौके पर केदारनाथ मंदिर के कपाट शीतकाल के लिए बंद कर दिए जाते हैं। बताया जा रहा है कि सुबह 4 बजे से ही मंदिर में विशेष पूजा-अर्चना शुरू कर दी गई थी। पूजा के बाद स्वयंभू ज्योतिर्लिंग को समाधि रुप देते हुए विशेष पूजा के साथ लिंग को भष्म से ढक दिया गया। 

ये भी पढ़ें - बाबा केदार के दर्शन करने उत्तराखंड पहुंचे पीएम, पूजा-अर्चना के बाद हर्षिल के लिए होंगे रवाना


बता दें कि परंपरा के अनुसार भगवान को भोग लगाने के बाद बाबा केदार की मूर्ति को मंदिर परिसर में भक्तों के दर्शन के लिए रखा गया। सभी धार्मिक औपचारिकताओं को पूरा करने के बाद मंदिर की चाबी प्रशासन और बद्री-केदार मंदिर समिति के अधिकारियों की मौजूदगी में उपजिलाधिकारी ऊखीमठ गोपाल सिंह चैहान को सौंप दी गई।  

Todays Beets: