Monday, January 21, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

केदारनाथ मंदिर के कपाट भक्तों के लिए हुए बंद, गद्दीस्थल में कर सकेंगे दर्शन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
केदारनाथ मंदिर के कपाट भक्तों के लिए हुए बंद, गद्दीस्थल में कर सकेंगे दर्शन

देहरादून। उत्तराखंड स्थित भगवान केदारनाथ मंदिर के कपाट शुक्रवार को सुबह 8 बजकर 30 मिनट पर शीतकाल के लिए बंद कर दिए गए। बद्री-केदार मंदिर समिति की ओर से पहले ही पूरी तैयारियां कर ली गई थीं। कपाट बंद होने के बाद भगवान की चल विग्रह उत्सव डोली शीतकालीन गद्दी स्थल ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ के लिए प्रस्थान कर चुकी है और रात्रि प्रवास के लिए रामपुर पहुंचेगी। 11 नवंबर को यह डोली अपने शीतकालीन पूजा स्थल में विराजमान होगी। 

गौरतलब है कि भगवान केदारनाथ को 11वां ज्योर्तिलिंग माना गया है। भाई-दूज के मौके पर केदारनाथ मंदिर के कपाट शीतकाल के लिए बंद कर दिए जाते हैं। बताया जा रहा है कि सुबह 4 बजे से ही मंदिर में विशेष पूजा-अर्चना शुरू कर दी गई थी। पूजा के बाद स्वयंभू ज्योतिर्लिंग को समाधि रुप देते हुए विशेष पूजा के साथ लिंग को भष्म से ढक दिया गया। 

ये भी पढ़ें - बाबा केदार के दर्शन करने उत्तराखंड पहुंचे पीएम, पूजा-अर्चना के बाद हर्षिल के लिए होंगे रवाना


बता दें कि परंपरा के अनुसार भगवान को भोग लगाने के बाद बाबा केदार की मूर्ति को मंदिर परिसर में भक्तों के दर्शन के लिए रखा गया। सभी धार्मिक औपचारिकताओं को पूरा करने के बाद मंदिर की चाबी प्रशासन और बद्री-केदार मंदिर समिति के अधिकारियों की मौजूदगी में उपजिलाधिकारी ऊखीमठ गोपाल सिंह चैहान को सौंप दी गई।  

Todays Beets: