Tuesday, October 23, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

राज्य में सभी गाड़ियों में डस्टबिन लगाना हुआ अनिवार्य, सड़कों पर कूड़ा फेंकना पड़ सकता है महंगा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राज्य में सभी गाड़ियों में डस्टबिन लगाना हुआ अनिवार्य, सड़कों पर कूड़ा फेंकना पड़ सकता है महंगा

देहरादून।  राज्य में स्वच्छता को बढ़ावा देने के लिए सरकार की तरफ से अहम कदम उठाए गए हैं। उत्तराखंड सरकार ने अब चार पहिया वाहनों में डस्टबिन या डस्टबैग लगाना अनिवार्य कर दिया है इसके बिना वाहनों के रजिस्ट्रेशन नहीं होंगे। परिवहन सचिव डी सेंथिल पांडियन की तरफ से यह आदेश जारी किया गया है।  स्वच्छ भारत अभियान के तहत साफ-सफाई और स्वच्छता को बढ़ावा देने के लिए यह निर्णय लिया गया है। 

दो पहिया वाहनों को छूट

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 2 अक्टूबर 2014 को स्वच्छ भारत मिशन की शुरूआत की थी और इसके तहत विभिन्न राज्यों में इसे मिशन के तौर पर चलाया जा रहा है। पर्यावरण संरक्षण और स्वच्छता को बढ़ावा देने के मकसद से मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने दो पहिया वाहनों को छोड़कर सभी वाहनों में डस्टबिन या डस्टबैग लगाने के निर्देश दिए थे। परिवहन सचिव की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि निजी एवं व्यावसायिक वाहनों पर इसे अनिवार्य कर दिया है। परिवहन विभाग के अफसरों को इसे तत्काल प्रभाव से लागू करने के निर्देश दिए गए हैं।

ये भी पढ़ें -टीईटी और डीएलएड कोर्स कर चुके शिक्षामित्र बनेंगे प्राथमिक शिक्षक, शासनादेश हुए जारी


जुर्माने का प्रावधान

आपको बता दें कि मोटर वाहन अधिनियम भारत सरकार के तहत आता है ऐसे में इसे राज्य में लागू करने के लिए प्रदेश सरकार को एक नियमावली बनानी पड़ेगी, जिसमें इसका प्रावधान करना होगा। परिवहन सचिव डी सेंथिल पांडियन ने कहा कि एक महीने के बाद इसकी समीक्षा की जाएगी। यदि वाहन मालिकों ने इसका पालन नहीं किया तो जुर्माने का भी प्रावधान किया जा सकता है।  

Todays Beets: