Thursday, November 23, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

विशिष्ट बीटीसी कर चुके शिक्षकों के बचाव में उतरे खुद शिक्षा मंत्री, केन्द्र से किया मान्यता देने का अनुरोध

अंग्वाल न्यूज डेस्क
विशिष्ट बीटीसी कर चुके शिक्षकों के बचाव में उतरे खुद शिक्षा मंत्री, केन्द्र से किया मान्यता देने का अनुरोध

देहरादून। अधिकारियों की लापरवाही की वजह से अप्रशिक्षितों की श्रेणी में हजारों शिक्षकों के बचाव में खुद शिक्षा मंत्री उतर आए हैं। स्कूली शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से मुलाकात कर इसके बारे में जानकारी दी। पांडे ने केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से मुलाकात कर साल 2001 से अब तक की मान्यता देने का भी अनुरोध किया। इसके साथ ही शिक्षा का अधिकार कानून (आरटीई एक्ट) के तहत उन्होंने प्राईवेट स्कूलों में पढ़ रहे सवा लाख छात्र-छात्राओं की फीस की प्रतिपूर्ति की भी मांग की है।

मान्यता देने का अनुरोध

गौरतलब है कि स्कूली शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने बताया कुछ कारणों की वजह से उत्तराखंड में विशिष्ट बीटीसी कोर्स को एनसीटीई से मान्यता नहीं मिल पाई जबकि उत्तरप्रदेश को समय पर ही मान्यता दे दी गई थी। अब शिक्षकों की भर्ती के नए मानकों के चलते ये सभी शिक्षक अप्रशिक्षितों की श्रेणी में आ गए हैं। शिक्षा मंत्री ने केन्द्रीय मंत्री से 2001 से अब तक विशिष्ट बीटीसी को मान्यता देने का अनुरोध किया है। 

ये भी पढ़ें - सीआरपी-बीआरपी के मामले में शिक्षा विभाग बैकफुट पर, सोमवार से शुरू होगी काउंसलिंग


कार्यवाही का भरोसा

आपको बता दें कि शिक्षा मंत्री ने निजी स्कूलों की फीस की देनदारी का मुद्दा रखते हुए पांडे ने बताया कि यदि समय पर फीस का भुगतान नहीं हुआ तो गरीब बच्चों की शिक्षा पर असर पड़ सकता है। केन्द्रीय मंत्री ने उन्हें जल्द कार्यवाही का आश्वासन देते हुए शिक्षा सचिव से बातचीत की है।  

 

Todays Beets: