Saturday, June 23, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

कैसे बढ़ेगी सरकारी स्कूलों में छात्रों की संख्या, निजी स्कूलों को दी जा रही धड़ल्ले से मान्यता

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कैसे बढ़ेगी सरकारी स्कूलों में छात्रों की संख्या, निजी स्कूलों को दी जा रही धड़ल्ले से मान्यता

देहरादून। राज्य में शिक्षा व्यवस्था को सुधारने के लिए सरकार की तरफ से लगातार कोशिशें की जा रही हैं लेकिन प्राथमिक शिक्षक संघ शिक्षा विभाग के अधिकारियों के प्रति नाराजगी जताई है। शिक्षक संघ ने आरोप लगाया कि सरकार एक तरफ सरकारी स्कूलों में छात्रों की संख्या बढ़ाने पर जोर दे रही है वहीं दूसरी ओर निजी स्कूलों को भी धड़ल्ले से मान्यता दी जा रही है। शिक्षक संघ ने कहा कि शिक्षा विभाग के अधिकारी अपने ही विभाग की जड़ें काटने पर तुले हुए हैं।

प्राईवेट स्कूलों को मान्यता

गौरतलब है कि उत्तराखंड राज्य प्राथमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष ने कहा कि सत्र के शुरू होते ही शिक्षा विभाग की तरफ से फरमान जारी कर दिया जाता है कि सरकारी स्कूलों में ज्यादा से ज्यादा बच्चों का नामांकन किया जाए वहीं प्राईवेट स्कूलों को भी उसी तेजी के साथ मान्यता दी जा रही है। कहा जा रहा है कि राज्य के बोर्ड से मान्यता पाने वाले 80 फीसदी स्कूल मानकों को पूरा ही नहीं करते हैं।


ये भी पढ़ें - उपनल के आउटसोर्स कर्मचारियों को सरकार दे सकती है बड़ा तोहफा, 20 से 25 फीसदी बढ़ सकता है मानदेय 

मानकों को नजरअंदाज

आपको बता दें कि शिक्षक संघ ने शिक्षा विभाग के अधिकारियों पर आरोप लगाया कि निजी स्कूलों का निरीक्षण करते समय सरकारी और प्राईवेट स्कूलों के बीच की दूरी को नजरअंदाज कर दिया जाता है जबकि नियम के अनुसार निजी विद्यालय की मान्यता का प्रावधान यह है कि राजकीय प्राथमिक विद्यालय से 5वीं तक मान्यता के लिए निजी विद्यालय की दूरी कम से कम 1 किलोमीटर व जूनियर विद्यालय की दूरी 3 किलोमीटर होनी चाहिए। प्राथमिक शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री से इस मामले में कार्रवाई करने की मांग की है।  

Todays Beets: