Monday, July 23, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

सातवां वेतनमान बिजली कर्मचारियों के लिए बनी मुसीबत, कम वेतन मिलने की शिकायत

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सातवां वेतनमान बिजली कर्मचारियों के लिए बनी मुसीबत, कम वेतन मिलने की शिकायत

देहरादून। सातवें वेतनमान की मांग करने वाले कर्मचारियों को राज्य सरकार ने उनका तोहफा दे दिया है लेकिन अब सातवें वेतनमान की सिफारिश कुछ विभागों के लिए मुसीबत बन गई है। उत्तराखंड के बिजली कर्मचारियों सातवें वेतनमान में बड़ा नुकसान हो रहा है। अभी तक सिर्फ कर्मचारी संगठन सातवें वेतनमान की विसंगतियों पर सवाल उठा रहे थे। अब इन विसंगतियों पर शासन स्तर से गठित समिति ने भी मुहर लगा दी है। बता दें कि सातवें वेतनमान की नई पे मेट्रिक्स से ऊर्जा के 45 प्रतिशत कर्मचारियों को नुकसान हो रहा है। इसकी वजह यूपी के समय से मिल रहा अतिरिक्त भत्ता को माना जा रहा है।

कर्मचारियों को नुकसान

तीनों निगमों में कुल 6307 कर्मचारी हैं। इसमें करीब तीन हजार कर्मचारियों को वेतन में नुकसान हो रहा है। सबसे अधिक कर्मचारी 3077 ऊर्जा निगम में है। यूजेवीएनएल में 2500 व पिटकुल में 730 कर्मचारी हैं। ऊर्जा के तीनों निगमों के कर्मचारियों को यूपी के समय से ही अतिरिक्त वेतन मिलता रहा है। कई संवर्गो में ऐसे वेतनमान तय हैं, जो दूसरे विभागों में नहीं हैं। सातवें वेतनमान में एकरुपता लाने को वित्त विभाग ने समान पे मेट्रिक्स लागू की जिसकी वजह से बिजली कर्मचारियों के वेतन कम हो गए। इस वजह से कर्मचारियों को हर महीने करीब 100 रुपये से लेकर 3 हजार रुपये तक का नुकसान हो रहा है। अब समिति ने शासन को अपनी रिपोर्ट सौंप दी है और समिति की रिपोर्ट को परीक्षण के लिए वित्त विभाग के पास भेज दिया गया है। 

ये भी पढ़ें - ब्रिज कोर्स करने वाले शिक्षकों के आवेदन का सत्यापन न करना प्रिंसीपल को पड़ेगा महंगा, आवेदन निर... 


 

 

 

 

Todays Beets: