Saturday, October 20, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

सातवां वेतनमान बिजली कर्मचारियों के लिए बनी मुसीबत, कम वेतन मिलने की शिकायत

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सातवां वेतनमान बिजली कर्मचारियों के लिए बनी मुसीबत, कम वेतन मिलने की शिकायत

देहरादून। सातवें वेतनमान की मांग करने वाले कर्मचारियों को राज्य सरकार ने उनका तोहफा दे दिया है लेकिन अब सातवें वेतनमान की सिफारिश कुछ विभागों के लिए मुसीबत बन गई है। उत्तराखंड के बिजली कर्मचारियों सातवें वेतनमान में बड़ा नुकसान हो रहा है। अभी तक सिर्फ कर्मचारी संगठन सातवें वेतनमान की विसंगतियों पर सवाल उठा रहे थे। अब इन विसंगतियों पर शासन स्तर से गठित समिति ने भी मुहर लगा दी है। बता दें कि सातवें वेतनमान की नई पे मेट्रिक्स से ऊर्जा के 45 प्रतिशत कर्मचारियों को नुकसान हो रहा है। इसकी वजह यूपी के समय से मिल रहा अतिरिक्त भत्ता को माना जा रहा है।

कर्मचारियों को नुकसान

तीनों निगमों में कुल 6307 कर्मचारी हैं। इसमें करीब तीन हजार कर्मचारियों को वेतन में नुकसान हो रहा है। सबसे अधिक कर्मचारी 3077 ऊर्जा निगम में है। यूजेवीएनएल में 2500 व पिटकुल में 730 कर्मचारी हैं। ऊर्जा के तीनों निगमों के कर्मचारियों को यूपी के समय से ही अतिरिक्त वेतन मिलता रहा है। कई संवर्गो में ऐसे वेतनमान तय हैं, जो दूसरे विभागों में नहीं हैं। सातवें वेतनमान में एकरुपता लाने को वित्त विभाग ने समान पे मेट्रिक्स लागू की जिसकी वजह से बिजली कर्मचारियों के वेतन कम हो गए। इस वजह से कर्मचारियों को हर महीने करीब 100 रुपये से लेकर 3 हजार रुपये तक का नुकसान हो रहा है। अब समिति ने शासन को अपनी रिपोर्ट सौंप दी है और समिति की रिपोर्ट को परीक्षण के लिए वित्त विभाग के पास भेज दिया गया है। 

ये भी पढ़ें - ब्रिज कोर्स करने वाले शिक्षकों के आवेदन का सत्यापन न करना प्रिंसीपल को पड़ेगा महंगा, आवेदन निर... 


 

 

 

 

Todays Beets: