Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

उत्तराखंड में कार्मिक, शिक्षक और आउटसोर्स संयुक्त मोर्चे ने सरकार को दी चेतावनी, कहा-हड़ताल नहीं चाहते तो बात करें

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड में कार्मिक, शिक्षक और आउटसोर्स संयुक्त मोर्चे ने सरकार को दी चेतावनी, कहा-हड़ताल नहीं चाहते तो बात करें

देहरादून। उत्तराखंड में कार्मिकों, शिक्षकों और आउटसोर्स संयुक्त मोर्चा ने अपनी मांग को लेकर 18 मई को 1 दिन के अवकाश पर जाने का ऐलान किया है। बता दें कि राज्य में शिक्षक और आउटसोर्स पर तैनात कर्मियों ने मांगे न माने जाने पर हड़ताल पर जाने की चेतावनी दी है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत पहले ही कह चुके हैं कि वे राज्य को हड़ताली प्रदेश नहीं बनने देंगे। 

गौरतलब है कि कार्मिक, शिक्षक, आउटसोर्स संयुक्त मोर्चे ने प्रतिक्रिया दी है। मोर्चे की बैठक में वक्ताओं ने कहा कि कार्मिक भी हड़ताल नहीं चाहते हैं लेकिन 1 मई को मोर्चे का गठन करने के बाद 3 मई को मुख्यमंत्री और मुख्य सचिव को मांग पत्र भेज दिया था। अब 18 मई को प्रदेशभर में कार्मिक एक दिन का अवकाश लेकर धरना-प्रदर्शन करेंगे। मोर्चे की चेतावनी के बावजूद अभी तक उन्हें बताचीत के लिए नहीं बुलाया गया है।

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड के लिए आने वाले 5 दिन हैं भारी, इन 7 जिलों में चल सकती हैं 90 किलोमीटर प्रतिघंटे की...


यहां बता दें कि संयुक्त मोर्चा का कहना है कि कार्मिकों की मंशा भी हड़ताल करने की नहीं रहती है लेकिन सरकार उनकी सुन ही रही है। उनका कहना है कि कोई भी ऐसी समस्या नहीं है, जिसका निस्तारण बातचीत से न हो सके। कार्मिक, शिक्षकों और आउटसोर्स संयुक्त मोर्चा का कहना है कि उन्हें उम्मीद है कि सरकार कार्मिकों की तकलीफों को समझेगी और उसे जल्द दूर किया जाएगा। 

गौर करने वाली बात है कि शिक्षक स्कूलों के त्रुटिपूर्ण कोटिकरण में सुधार न होने से नाराज हैं। इस बात को लेकर राजकीय शिक्षक संघ के जिला स्तरीय पदाधिकारियों ने 14 मई से सीईओ कार्यालय पर आमरण अनशन का ऐलान किया था लेकिन अब इसे स्थगित कर 22 मई को डीएम कार्यालय पर धरना देने का निर्णय लिया है।  

Todays Beets: