Monday, November 20, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

राज्य में पर्यटन विकास को लग सकता है धक्का, कर्मचारी अपनी मांगें मनवाने के लिए पर्यटन एकीकरण के विरोध में उतरे 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राज्य में पर्यटन विकास को लग सकता है धक्का, कर्मचारी अपनी मांगें मनवाने के लिए पर्यटन एकीकरण के विरोध में उतरे 

देहरादून। राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए निगमों के एकीकरण को एक झटका लगा है। अराजपत्रित पर्यटन कर्मचारी संघ ने मांगें पूरी होने तक पर्यटन के एकीकरण का विरोध तेज करने की रणनीति बनाई है। संघ ने सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए पर्यटन मुख्यालय पर बेमियादी धरना शुरू कर दिया है। कर्मचारियों ने धरने के दौरान पर्यटन विकास परिषद मुख्यालय प्रशासन और सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। संघ का मानना है कि उनकी ऐसी मांगें है जिन्हें आसानी से पूरा किया जा सकता है लेकिन जानबूझ कर सरकार उसे लटका रही है।

सरकार नहीं मान रही मांग

गौरतलब है कि सरकार राज्य में पर्यटन को और रफ्तार देने के मकसद से तीनों निगमों को एक करना चाह रही है। इसके लिए सभी के साथ बातचीत भी हो चुकी है। अब अराजपत्रित कर्मचारियों का कहना है कि अगर उनकी मांगों को पूरा नहीं किया जाता है तो ऐसे में कर्मचारी एकीकरण की सरकार की मुहिम में सहयोग नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि विरोध एकीकरण का नहीं है, बल्कि सरकार की नीयत का है। महासचिव हेमंत शर्मा ने कहा कि पूर्व में एकीकरण को लेकर कर्मचारियों ने समर्थन दे दिया था पर अब जब सरकार कर्मचारियों की उपेक्षा पर आमादा है, तो किस आधार पर समर्थन किया जाए। 

ये भी पढ़ें - प्राथमिक शिक्षक बनने के इच्छुक उम्मीदवारों को कोर्ट ने दी राहत, दूसरे राज्यों से डीएलएड करने ...

धरना जारी रहेगा


आपको बता दें कि कर्मचारी संघ ने कहा कि 6 सितंबर को हुई कैबिनेट बैठक में पर्यटन निदेशालय के लेखा संवर्ग के कुल स्वीकृत 9 पदों में से चार लेखाकार व पांच सहायक लेखाकार नियुक्त करने के प्रस्ताव को नामंजूर कर दिया गया है। इसके साथ ही अन्य मांगों को भी नजरअंदाज किया जा रहा है। कर्मचारियों की मांगें जब तक पूरी नहीं की जाएगी संघ का धरना जारी रहेगा। यहां यह भी बता दें कि केएमवीएन जीएमवीएन विकास निगम कर्मचारी महासंघ के अध्यक्ष दिनेश गुरुरानी ने कहा कि अराजपत्रित पर्यटन कर्मचारी संघ का विरोध समझ से परे है। पूर्व में हुई संयुक्त बैठक में संघ ने भी एकीकरण का समर्थन किया था।

 

 

Todays Beets: