Tuesday, June 19, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

सचिवालय में पत्रकारों की एंट्री होगी बैन,सरकार देगी जानकारी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सचिवालय में पत्रकारों की एंट्री होगी बैन,सरकार देगी जानकारी

देहरादून। राज्य सरकार ने अब सचिवालय के विभागों में मीडिया के प्रवेश पर पाबंदी लगाने की तैयारी कर रही है। राज्य के मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने पत्रकारों से बात करते हुए खुद इस बात की जानकारी दी है। इसके बाद शायद ‘सूत्रों के हवाले से’ वाले खबरों पर ब्रेक लग जाएगी। आपको बता दें कि प्रदेश में सरकार के निर्णयों की पहले से जानकारी प्राप्त करने की तलाश में रहने वाले पत्रकारों के विभागों में प्रवेश पर रोक लगाने की तैयारी कर रही है। ऐसा कहा जा रहा है कि सचिवालय और सत्ता के गलियारों तक पहुंच रखने वाले पत्रकारों पर जीरो टॉलरेंस का रुख अख्तियार कर लिया है। 

 

जीरो टॉलरेंस की नीति

गौरतलब है कि सरकार ने शासन में पारदर्शिता लाने और भ्रष्टाचार खत्म करने की तरफ एक बड़ा कदम उठाया है। इसके तहत शासन के स्तर से मिलने वाली सूचनाओं पर रुख कड़ा दिया है। सचिवालय में पत्रकार वार्ता में मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने बताया कि सरकार सभी मीडिया कर्मियों को सही व आधिकारिक जानकारी देना चाहती है इसके लिए नई व्यवस्था बनाई गई है। अब हर दिन दोपहर चार बजे सूचना निदेशक सचिवालय में मीडिया से रूबरू हो शासन और महकमों में विकास संबंधी गतिविधियों और अन्य सूचनाओं को मुहैया कराएंगे। मुख्य सचिव के आदेश में यह कहा गया कि मंत्रिमंडल की बैठकों से पहले कई बार इसके विषय मीडिया के जरिये बाहर आ रहे हैं। इनकी गोपनीयता बनाने के लिए संबंधित विभाग व अधिकारी अपने स्तर से कदम उठाएं।  इसके साथ ही यह भी स्पष्ट किया है कि नियमानुसार किसी भी बाहरी व्यक्ति को कर्मचारियों से कार्यालय में नहीं मिलने दिया जाएगा।


ये भी पढ़ें - फर्जी दस्तावेजों के आधार पर नौकरी पाने वाले फरार फाॅरेस्ट गार्डों को पुलिस ने किया गिरफ्तार, ...

 

Todays Beets: