Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

सालों से आपदा की मार झेल रहे पिथौरागढ़ के इन गांवों का ‘अस्तित्व’ हो सकता है खत्म, पहाड़ों पर पड़ी दरारें

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सालों से आपदा की मार झेल रहे पिथौरागढ़ के इन गांवों का ‘अस्तित्व’ हो सकता है खत्म, पहाड़ों पर पड़ी दरारें

पिथौरागढ़। उत्तराखंड में पिथौरागढ़ इलाके के पैंकुति और दारी गांवों में 2004 में आई आपदा के दौरान भीषण तबाही मची थी। अब इस गांव के ऊपर पहाड़ी पर करीब 10 दरारें पड़ गई हैं। ऐसी आशंका जताई जा रही है कि अगर भारी बारिश के दौरान पहाड़ी दरकती है तो दोनों गांवों का अस्तित्व खत्म हो जाएगा। बताया जा रहा है कि इस महीने की शुरुआत में हुई भारी बारिश के बाद गावों के कई मकानों में भी दरारें आ गई हैं। इन दोनों गांवों के करीब 40 परिवार दहशत में अपनी जिंदगी गुजार रहे हैं। 

गौरतलब है कि तहसील मुख्यालय से 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित पापड़ी ग्राम पंचायत के दारी और पैंकुति तोक निवासी साल 2004 से ही अपने पुनर्वास की राह देख रहे हैं लेकिन अब तक इनकी कोई खोज खबर नहीं ली गई है। साल  2013 में आई आपदा ने भी इन गांवों में भारी तबाही मचाई थी। इन गांवों के निवासी आज भी अपनी रातें दहशत में गुजारने पर मजबूर हैं। 

ये भी पढ़ें - नहीं रहीं उत्तराखंड की पहली लोकगायिका कबूतरी देवी, 73 साल की उम्र में हुआ निधन


यहां बता दें कि राज्य में हो रही लगातार भारी बारिश की वजह से पैंकुति गांव के वीरेंद्र सिंह बिष्ट के मकान में दरारें आ गईं है जबकि गोमती देवी के मकान को भी नुकसान पहुंचा है। दारी गांव के मंगल सिंह के आंगन में दरारें पड़ी हैं। ग्रामीणों का कहना है कि सरकार और प्रशासन को ग्रामीणों को विस्थापित करने में देर नहीं करनी चाहिए। दोनों गांवों के लोगों को सुरक्षित स्थान पर नहीं बसाया गया तो मामला गंभीर हो सकता है। गांव वाले सरकार पर आरोप लगाते हुए कह रहे हैं कि दोनांे गांव साल 2004 से आपदा की मार झेल रहे हैं लेकिन किसी को यहां के लोगों के विस्थापन की कोई फिक्र नहीं है। अब मुनस्यारी के एसडीएम कृष्ण नाथ गोस्वामी का कहना है कि दारी और पैंकुति गांव का भूगर्भीय सर्वेक्षण कराया जाएगा। सर्वेक्षण के बाद ही पुनर्वास के लिए रिपोर्ट शासन को भेजी जाएगी। 

 

Todays Beets: