Tuesday, October 16, 2018

Breaking News

   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||   सुप्रीम कोर्ट ने कठुआ मामले में सीबीआई जांच की अर्जी को खारिज किया    ||   मध्यप्रदेश सरकार ने पांच नए सूचना आयुक्त चुने, राज्यपाल को भेजी सिफारिश     ||   बिहार: ASI संग शराब बेच रहा था थानेदार, अरेस्ट     ||

अन्नदाताओं का सरकार के खिलाफ हल्ला बोल, न्यूनतम समर्थन मूल्य नहीं मिलने पर शुरू किया आमरण अनशन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अन्नदाताओं का सरकार के खिलाफ हल्ला बोल, न्यूनतम समर्थन मूल्य नहीं मिलने पर शुरू किया आमरण अनशन

देहरादून। उत्तराखंड के किसानों ने सरकार के खिलाफ हल्ला बोल दिया है। धान का न्यूनतम समर्थन मूल्य नहीं मिलने के विरोध में किसानों ने आमरण अनशन शुरू कर दिया है। बताया जा रहा है कि किसान रुद्रपुर गल्ला मंडी में धरने पर बैठ गए हैं। अपने अनशन के दौरान किसानों ने जिला प्रशासन और सरकार पर उनकी अनदेखी करने का आरोप लगाया है। किसानों के धरने के चलते मंडी में धान की आवक भी प्रभावित हो रही है। अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के बैनर तले धान के न्यूनतम समर्थन मूल्य दिलाने के लिए धरने पर बैठे किसानों ने कहा कि देश को अनाज देने वाले अन्नदाताओं को अपनी जायज मांगों के लिए भी आमरण अनशन करना पड़ रहा है। उनका कहना है कि मुनाफाखोर और बिचैलिए का सरकारी काम में भारी दखल है जिसका खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ रहा है।  

गौरतलब है कि उत्तराखंड सरकार कर्ज में डूबे किसानों का कर्ज माफ करने से इंकार कर चुकी है। सरकार की ओर से कहा गया है कि उनके पास सीमित संसाधन हैं और इससे इतनी आय नहीं हो रही कि कर्ज माफ किया जा सके। अब किसान धान का न्यूनतम समर्थन मूल्य नहीं मिलने से नाराज हैं और उन्होंने आमरण अनशन शुरू कर दिया है। किसानों का आरोप है कि सरकार और किसानों के बीच बिचैलिए और मुनाफाखोर विदेशों की यात्राएं कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें - LIVE: दिल्ली सरकार के परिवहन मंत्री के घर पर आयकर विभाग का छापा, कई दस्तावेज लिए कब्जे में


यहां बता दें कि प्रदेश सरकार की ओर से धान की खरीद का मूल्य 1750 रुपये प्रति क्विंटल घोषित किया है लेकिन मुनाफाखोर और बिचैलिए इसे लागू नहीं होने दे रहे हैं। मजबूरी में किसानों को 1200 रुपये क्विंटल धान बेचना पड़ रहा है। किसान इतने दिनों से प्रदर्शन कर रहे हैं लेकिन आज तक किसी जनप्रतिनिधि और प्रशासनिक अधिकारी ने उनकी सुध नहीं ली है। 

Todays Beets: