Saturday, May 25, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

अन्नदाताओं का सरकार के खिलाफ हल्ला बोल, न्यूनतम समर्थन मूल्य नहीं मिलने पर शुरू किया आमरण अनशन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अन्नदाताओं का सरकार के खिलाफ हल्ला बोल, न्यूनतम समर्थन मूल्य नहीं मिलने पर शुरू किया आमरण अनशन

देहरादून। उत्तराखंड के किसानों ने सरकार के खिलाफ हल्ला बोल दिया है। धान का न्यूनतम समर्थन मूल्य नहीं मिलने के विरोध में किसानों ने आमरण अनशन शुरू कर दिया है। बताया जा रहा है कि किसान रुद्रपुर गल्ला मंडी में धरने पर बैठ गए हैं। अपने अनशन के दौरान किसानों ने जिला प्रशासन और सरकार पर उनकी अनदेखी करने का आरोप लगाया है। किसानों के धरने के चलते मंडी में धान की आवक भी प्रभावित हो रही है। अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के बैनर तले धान के न्यूनतम समर्थन मूल्य दिलाने के लिए धरने पर बैठे किसानों ने कहा कि देश को अनाज देने वाले अन्नदाताओं को अपनी जायज मांगों के लिए भी आमरण अनशन करना पड़ रहा है। उनका कहना है कि मुनाफाखोर और बिचैलिए का सरकारी काम में भारी दखल है जिसका खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ रहा है।  

गौरतलब है कि उत्तराखंड सरकार कर्ज में डूबे किसानों का कर्ज माफ करने से इंकार कर चुकी है। सरकार की ओर से कहा गया है कि उनके पास सीमित संसाधन हैं और इससे इतनी आय नहीं हो रही कि कर्ज माफ किया जा सके। अब किसान धान का न्यूनतम समर्थन मूल्य नहीं मिलने से नाराज हैं और उन्होंने आमरण अनशन शुरू कर दिया है। किसानों का आरोप है कि सरकार और किसानों के बीच बिचैलिए और मुनाफाखोर विदेशों की यात्राएं कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें - LIVE: दिल्ली सरकार के परिवहन मंत्री के घर पर आयकर विभाग का छापा, कई दस्तावेज लिए कब्जे में


यहां बता दें कि प्रदेश सरकार की ओर से धान की खरीद का मूल्य 1750 रुपये प्रति क्विंटल घोषित किया है लेकिन मुनाफाखोर और बिचैलिए इसे लागू नहीं होने दे रहे हैं। मजबूरी में किसानों को 1200 रुपये क्विंटल धान बेचना पड़ रहा है। किसान इतने दिनों से प्रदर्शन कर रहे हैं लेकिन आज तक किसी जनप्रतिनिधि और प्रशासनिक अधिकारी ने उनकी सुध नहीं ली है। 

Todays Beets: