Monday, September 24, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

नौकरी दिलाने के नाम पर लाखों की ठगी में फंसे पूर्व भाजपा नेता, मुकदमा हुआ दर्ज

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नौकरी दिलाने के नाम पर लाखों की ठगी में फंसे पूर्व भाजपा नेता, मुकदमा हुआ दर्ज

हरिद्वार। नौकरी दिलाने के नाम पर फर्जीवाड़ा करने में भाजपा के एक पूर्व नेता का नाम सामने आ रहा है। बबीता रानी नाम की एक महिला के आरोप के बाद उसके खिलाफ मामला दर्ज करने के निर्देश दिए गए हैं। बताया जा रहा है कि आॅल उत्तराखंड पेरेंट्स एसोसिएशन के वर्तमान अध्यक्ष नीरज सिंघल पर यह आरोप लगा है। बता दें कि सिंघल राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री डाॅक्टर रमेश पोखरियाल निशंक के सांसद प्रतिनिधि भी रहे हैं। हालांकि पार्टी से बगावत करने पर निशंक ने उन्हें सांसद प्रतिनिधि के पद से हटा दिया था। 

गौरतलब है कि नौकरी से निकाले जाने के बाद उसने अपने रसूख का इस्तेमाल गलत कार्यों के लिए करने लगा। सिंघल पर आरोप है कि उन्होंने पटेलनगर थाना क्षेत्र निवासी बबीता रानी शर्मा को झांसा दिया कि उसकी सरकार में अच्छी पकड़ है। वह बेरोजगार युवाओं को सचिवालय में सीधी भर्ती के जरिए नौकरी दिला देंगे। आरोप है कि उसके झांसे में आकर महिला ने 13 युवाओं को नौकरी के लिए तैयार कर लिया। आरोप है कि उनसे नौकरी का झांसा देकर आरोपी ने लाखों रुपये हड़प लिए।

ये भी पढ़ें - गंगोत्री में बनी झील का अस्तित्व खत्म पर खतरा बरकरार, वैज्ञानिकों ने जताई चिंता 

यहां बता दें कि नौकरी नहीं मिलने पर उन युवाओं ने बबीता से अपने पैसे वापस मांगे। इसके बाद आरोपी महिला ने नीरज सिंघल से पैसे वापस देने के लिए कहा लेकिन वह आनाकानी करने लगा। अब महिला के एसएसपी कार्यालय में इसकी शिकायत की गई तो वहां से पीड़ितों को तहरीर दर्ज कराने के लिए कहा गया। 


ऐसे किया फर्जीवाड़ा

राजपुर रोड पर दून के प्रतिष्ठित स्कूल संचालक की 0.19 एकड़ जमीन थी। स्कूल संचालक के नाम दर्ज इस जमीन से .16 एकड़ जमीन उसे मुआवजा देकर लोनिवि ने अधिग्रहण कर ली। ऐसे में उनके नाम मौके पर केवल .03 एकड़ भूमि बची लेकिन लोक निर्माण विभाग को दी गई भूमि राजस्व अभिलेखा में लोक निर्माण विभाग के नाम दर्ज होने से पहले ही मुआवजा लेने के बावजूद पूरी .19 एकड़ का जमीन स्कूल संचालक से एक रिटायर आईएएस के नाम बेनाम कर दिया। पूर्व आईएएस यह .16 एकड़ जमीन बगल के प्लाट धारकों की कब्जा जमा रहा है।   

 

Todays Beets: