Monday, May 21, 2018

Breaking News

   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||

फर्जी दस्तावेजों के आधार पर भर्ती हुए फाॅरेस्ट गार्डों पर तलवार, शासन ने मांगी सूची

अंग्वाल न्यूज डेस्क
फर्जी दस्तावेजों के आधार पर भर्ती हुए फाॅरेस्ट गार्डों पर तलवार, शासन ने मांगी सूची

देहरादून। राज्य में फर्जी दस्तावेजों के आधार पर भर्ती हुए 14 फाॅरेस्ट गार्डों की नौकरी पर तलवार लटक गई है। अब इन गार्डों से विभाग ने स्पष्टीकरण मांगा है। आरटीआई के तहत मांगी गई जानकारी में इस बात का खुलासा हुआ है कि पहले ये अलग-अलग रेंजों में दिहाड़ी मजदूर के तौर पर काम करते रहे और भर्ती के समय फर्जी हाईस्कूल सर्टिफिकेट जमाकर गार्ड बन गए। बता दें कि ये सभी गार्ड 2013 से 2016 के बीच भर्ती हुए थे। 

शासन ने मांगी सूची

गौरतलब है कि फर्जी तौर पर भर्ती हुए इन फाॅरेस्ट गार्डों ने खुद को जिस जिले के हाईस्कूल का परीक्षार्थी बताया वहां इनका कोई रिकाॅर्ड ही नहीं है जबकि कई के यूपी और उत्तराखंड बोर्ड के समकक्ष या मान्यताप्राप्त बोर्ड के सर्टिफिकेट नहीं हैं। पीसीसीएफ मोनिष मल्लिक ने बताया कि जिन कर्मचारियों के सर्टिफिकेट को लेकर शिकायतें मिली हैं उनसे स्पष्टीकरण मांगा जा रहा है। अब तक 11 से ज्यादा फॉरेस्ट गार्डो को चार्जशीट दी चुकी है। उन्होंने कहा कि जो भी गार्ड पर्याप्त सबूत पेश नहीं कर पाएगा उसे बर्खास्त किया जाएगा। शासन की तरफ से भी विवादित प्रमाण पत्रों वाले फाॅरेस्टरों की सूची तलब की गई है। 

ये भी पढ़ें - भूकंप के तेज झटकों से हिली देवभूमि, कई अन्य राज्यों में भी असर, जानमाल के नुकसान की खबर नहीं

इनके हैं फर्जी दस्तावेज


फॉरेस्ट गार्ड नवल पाठक, संतोष कुमार, विनोद कुमार, श्याम लाल (हरिद्वार), जीवन नाथ, भगत राम, राम सिंह, बल¨बदर सिंह, अरुण कुमार (दून वन प्रभाग) इनमें राम सिंह व बल¨बदर सिंह अब कुमाऊं क्षेत्र में तैनात हैं। फॉरेस्टर बृजमोहन व जगमोहन (लैंसडौन), रेखा बहुगुणा व नरेंद्र डुंगरियाल (बद्रीनाथ)। विक्रम सिंह (राजाजी पार्क)।

ये हुए बर्खास्त

फॉरेस्ट गार्ड जाकिर हुसैन, कुलदीप सिंह, सूर्य प्रकाश व गौरव कुमार (राजाजी पार्क)। इनमें गौरव हाईकोर्ट से स्टे पर हैं। जगत सिंह बिष्ट (कार्बेट), शिव सिंह, ख्याली राम व हरि सिंह (बद्रीनाथ वन प्रभाग)। फॉरेस्ट गार्ड नंद किशोर (राजाजी पार्क) का डिमोशन हो चुका है।  

Todays Beets: