Saturday, August 18, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

गरीब छात्रों का सपना हो सकता है चकनाचूर, आरटीई के तहत मुफ्त शिक्षा हो सकती है बंद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
गरीब छात्रों का सपना हो सकता है चकनाचूर, आरटीई के तहत मुफ्त शिक्षा हो सकती है बंद

देहरादून। आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के बच्चों का प्राईवेट स्कूलों में पढ़ने का सपना टूट सकता है। राज्य सरकार ने शिक्षा का अधिकार (आरटीई) कानून के तहत प्राईवेट स्कूलों में 25 फीसदी सीटें आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के बच्चों के लिए आरक्षित रखने की व्यवस्था को अगले साल से खत्म करने का मन बना लिया है। शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे का कहना है कि सरकार अब यह सुविधा सिर्फ जरूरतमंद बच्चों को ही देगी।

योजना में संशोधन

गौरतलब है कि विद्यालयी शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने साफ तौर पर कहा है कि इस योजना की वजह से राज्य के ऊपर आर्थिक बोझ बढ़ता जा रहा है। वर्तमान में निजी स्कूलों में 1.10 लाख छात्र-छात्राएं इस कोटे के तहत पढ़ रहे हैं और इनकी फीस के लिए सालाना करीब 120 करोड़ रुपये की जरूरत होती है। बता दें कि पार्टी मुख्यालय में पत्रकारों से बात करते हुए शिक्षा मंत्री ने कहा कि मौजूदा वक्त में राज्य पर प्राईवेट स्कूलों की करीब 91 करोड़ की देनदारी हो चुकी है। उन्होंने कहा कि इस योजना का लाभ वास्तविक जरूरतमंद व्यक्ति को मिल भी रहा है या नहीं यह भी जांच का विषय है। आपको बता दें कि राज्य का वित्त विभाग भी इस योजना को संशोधित करने का सुझाव दे चुका है। 


ये भी पढ़ें - स्वामीराम हिमालयन विश्वविद्यालय के द्वितीय दीक्षांत समारोह में बोले उपराष्ट्रपति- भाषा और शिक...

 

Todays Beets: