Monday, July 23, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

उत्तराखंड के लोगों की मांग हो सकती है पूरी, गैरसैंण बन सकता है ग्रीष्मकालीन राजधानी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड के लोगों की मांग हो सकती है पूरी, गैरसैंण बन सकता है ग्रीष्मकालीन राजधानी

नई दिल्ली/देहरादून।  उत्तराखंड के लोगों की काफी लंबी मांग पूरी होने वाली है। गैरसैंण को राज्य की ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाया जा सकता है। उत्तराखंड की स्थापना दिवस पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि इसे उसी के मुताबिक विकसित किया जा रहा है। वहां हर तरह की बुनियादी सुविधाओं के विकास के साथ पीने के पानी की समस्या से निपटने के लिए रामगंगा में झील बनाने की तैयारी की जा रही है। 

बड़ी हस्ती होंगे शामिल

गौरतलब है कि प्रदेश में राज्य की स्थापना को ‘उत्तराखंड उदय’ के रूप में मनाया जा रहा है। सीएम ने कहा कि राज्य के स्थापना दिवस की शुरुआत इस बार ‘रैबार’ के साथ होगी। इसमें शामिल होने के लिए उत्तराखंड मूल के राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान बनाने वाले लोगों को आमंत्रित किया गया है। इसमें थलसेना अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत, कोस्टगार्ड के डायरेक्टर जनरल राजेंद्र सिंह, रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष अश्विनी लोहानी और एनएसए अजीत डोभाल सहित कई लोग हिस्सा लेंगे।

ये भी पढ़ें - कोटद्वार में शुरू हुई भगवान राम की जीवनी वाले डाक टिकटों की बिक्री, पहली बार जारी हुई रामायण ...


नहीं होगी कर्ज माफी  

आपको बता दें कि रैबार का मकसद राज्य के विकास के लिए इन लोगों से सुझाव और सहायता लेना है। इन लोगों से उत्तराखंड से पलायन रोकने के साथ ही नौकरियों के अवसर पैदा करने पर भी चर्चा होगी। यहां बता दें कि किसानों के कर्ज माफी को सरकार ने नकार दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार के पास इतने संसाधन नहीं है कि वह कर्ज माफी कर सके लेकिन परंतु किसानों को बेहद कम ब्याज पर आसान ऋण मुहैया कराया जाएगा और इस ऋण का इस्तेमाल किसान किसी भी कार्य में कर सकते हैं।

Todays Beets: