Saturday, October 20, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

उत्तराखंड के लोगों की मांग हो सकती है पूरी, गैरसैंण बन सकता है ग्रीष्मकालीन राजधानी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड के लोगों की मांग हो सकती है पूरी, गैरसैंण बन सकता है ग्रीष्मकालीन राजधानी

नई दिल्ली/देहरादून।  उत्तराखंड के लोगों की काफी लंबी मांग पूरी होने वाली है। गैरसैंण को राज्य की ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाया जा सकता है। उत्तराखंड की स्थापना दिवस पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि इसे उसी के मुताबिक विकसित किया जा रहा है। वहां हर तरह की बुनियादी सुविधाओं के विकास के साथ पीने के पानी की समस्या से निपटने के लिए रामगंगा में झील बनाने की तैयारी की जा रही है। 

बड़ी हस्ती होंगे शामिल

गौरतलब है कि प्रदेश में राज्य की स्थापना को ‘उत्तराखंड उदय’ के रूप में मनाया जा रहा है। सीएम ने कहा कि राज्य के स्थापना दिवस की शुरुआत इस बार ‘रैबार’ के साथ होगी। इसमें शामिल होने के लिए उत्तराखंड मूल के राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान बनाने वाले लोगों को आमंत्रित किया गया है। इसमें थलसेना अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत, कोस्टगार्ड के डायरेक्टर जनरल राजेंद्र सिंह, रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष अश्विनी लोहानी और एनएसए अजीत डोभाल सहित कई लोग हिस्सा लेंगे।

ये भी पढ़ें - कोटद्वार में शुरू हुई भगवान राम की जीवनी वाले डाक टिकटों की बिक्री, पहली बार जारी हुई रामायण ...


नहीं होगी कर्ज माफी  

आपको बता दें कि रैबार का मकसद राज्य के विकास के लिए इन लोगों से सुझाव और सहायता लेना है। इन लोगों से उत्तराखंड से पलायन रोकने के साथ ही नौकरियों के अवसर पैदा करने पर भी चर्चा होगी। यहां बता दें कि किसानों के कर्ज माफी को सरकार ने नकार दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार के पास इतने संसाधन नहीं है कि वह कर्ज माफी कर सके लेकिन परंतु किसानों को बेहद कम ब्याज पर आसान ऋण मुहैया कराया जाएगा और इस ऋण का इस्तेमाल किसान किसी भी कार्य में कर सकते हैं।

Todays Beets: