Thursday, April 26, 2018

Breaking News

   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||   रेलवे की 90 हजार नौकरियों के आवेदन की आज लास्ट डेट, दो करोड़ 80 लाख कर चुके हैं अप्लाई     ||   कांग्रेस में बड़ा बदलाव: जनार्दन द्विवेदी की छुट्टी, गहलोत बने नए AICC महासचिव     ||   भारत ने चीन की तिब्बत सीमा पर भेजे और सैनिक, गश्त भी बढ़ाई     ||   अब कॉल सेंटर की नौकरियों पर नजर, अमेरिकी सांसद ने पेश किया बिल     ||   ब्लूमबर्ग मीडिया का दावा, 2019 छोड़िए 2029 तक पीएम रहेंगे नरेंद्र मोदी     ||   फेसबुक को डेटा लीक मामले से लगा तगड़ा झटका, 35 अरब डॉलर का नुकसान     ||

एमबीबीएस और पीजी की फीस को लेकर काॅलेज और सरकार में तनातनी, 16 अप्रैल को होगा फैसला

अंग्वाल न्यूज डेस्क
एमबीबीएस और पीजी की फीस को लेकर काॅलेज और सरकार में तनातनी, 16 अप्रैल को होगा फैसला

देहरादून। एमबीबीएस और पीजी की फीस को लेकर राज्य के निजी काॅलेज और सरकार आमने-सामने आ गए हैं। काॅलेज फीस के निर्धारण का अधिकार किसी भी कीमत पर छोड़ने को तैयार नहीं है जबकि छात्रों के विरोध के बाद सरकार ने इसे खुद तय करने का फैसला लिया है। इस तनातनी के बीच प्रवेश एवं शुल्क नियामक समिति की 16 अप्रैल को बैठक बुलाई गई है। बता दें कि पीजी सीटों पर चल रहे दाखिले के लिए निजी काॅलेजों द्वारा पाठ्यक्रम की फीस तय करने को लेकर विवाद बढ़ गया है। 

गौरतलब है कि ऐसी शिकायतें मिलने पर चिकित्सा शिक्षा निदेशालय ने निजी मेडिकल कॉलेजों के रवैये की शिकायत सरकार से की है। सरकार ने एक बार फिर कॉलेजों की मनमानी पर अंकुश लगाने को प्रवेश एवं शुल्क नियामक समिति की बैठक 16 अप्रैल को बुलाई है। समिति फीस तय किए जाने को लेकर निजी कॉलेजों के दावे को लेकर अहम फैसला ले सकती है। 

ये भी पढ़ें - तबादला एक्ट पर विभागों में तालमेल की कमी, सुगम-दुर्गम तय करने की प्रक्रिया में मतभेद


आपको बता दें कि निजी काॅलेजों द्वारा एमबीबीएस और पीजी सीटों पर फीस को लेकर सरकार ने अपना रुख कड़ा कर दिया है। बता दें कि फीस बढ़ोतरी को लेकर प्रदेश में छात्रों और अभिभावकों ने जमकर प्रदर्शन किया था। मुख्यमंत्री के हस्तक्षेप के बाद काॅलेजों की बढ़ी हुई फीस वापस लेनी पड़ी थी लेकिन सरकार और कॉलेजों के दावों के विपरीत पीजी सीटों पर दाखिले के दौरान फीस के मामले में फिर अजीबोगरीब हालात पैदा हो गए हैं।

यहां बता दें कि निजी काॅलेजों का कहना है कि उनके यहां दाखिला लेने वाले छात्रों के लिए फीस निर्धारित करने का अधिकार उनका है। काॅलेजों के इस फैसले के बाद कुछ छात्र हाईकोर्ट चले गए थे। चिकित्सा शिक्षा निदेशक डॉ आशुतोष सयाना ने कहा कि प्रवेश एवं शुल्क नियामक समिति निजी कॉलेजों को फीस के बारे में हिदायत दे चुकी है। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर गठित इस कमेटी को फीस निर्धारण का अधिकार है। समिति ने श्री गुरु राम राय काॅलेज को इसके लिए नोटिस भी भेज चुकी है।  

Todays Beets: