Friday, September 21, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

एमबीबीएस और पीजी की फीस को लेकर काॅलेज और सरकार में तनातनी, 16 अप्रैल को होगा फैसला

अंग्वाल न्यूज डेस्क
एमबीबीएस और पीजी की फीस को लेकर काॅलेज और सरकार में तनातनी, 16 अप्रैल को होगा फैसला

देहरादून। एमबीबीएस और पीजी की फीस को लेकर राज्य के निजी काॅलेज और सरकार आमने-सामने आ गए हैं। काॅलेज फीस के निर्धारण का अधिकार किसी भी कीमत पर छोड़ने को तैयार नहीं है जबकि छात्रों के विरोध के बाद सरकार ने इसे खुद तय करने का फैसला लिया है। इस तनातनी के बीच प्रवेश एवं शुल्क नियामक समिति की 16 अप्रैल को बैठक बुलाई गई है। बता दें कि पीजी सीटों पर चल रहे दाखिले के लिए निजी काॅलेजों द्वारा पाठ्यक्रम की फीस तय करने को लेकर विवाद बढ़ गया है। 

गौरतलब है कि ऐसी शिकायतें मिलने पर चिकित्सा शिक्षा निदेशालय ने निजी मेडिकल कॉलेजों के रवैये की शिकायत सरकार से की है। सरकार ने एक बार फिर कॉलेजों की मनमानी पर अंकुश लगाने को प्रवेश एवं शुल्क नियामक समिति की बैठक 16 अप्रैल को बुलाई है। समिति फीस तय किए जाने को लेकर निजी कॉलेजों के दावे को लेकर अहम फैसला ले सकती है। 

ये भी पढ़ें - तबादला एक्ट पर विभागों में तालमेल की कमी, सुगम-दुर्गम तय करने की प्रक्रिया में मतभेद


आपको बता दें कि निजी काॅलेजों द्वारा एमबीबीएस और पीजी सीटों पर फीस को लेकर सरकार ने अपना रुख कड़ा कर दिया है। बता दें कि फीस बढ़ोतरी को लेकर प्रदेश में छात्रों और अभिभावकों ने जमकर प्रदर्शन किया था। मुख्यमंत्री के हस्तक्षेप के बाद काॅलेजों की बढ़ी हुई फीस वापस लेनी पड़ी थी लेकिन सरकार और कॉलेजों के दावों के विपरीत पीजी सीटों पर दाखिले के दौरान फीस के मामले में फिर अजीबोगरीब हालात पैदा हो गए हैं।

यहां बता दें कि निजी काॅलेजों का कहना है कि उनके यहां दाखिला लेने वाले छात्रों के लिए फीस निर्धारित करने का अधिकार उनका है। काॅलेजों के इस फैसले के बाद कुछ छात्र हाईकोर्ट चले गए थे। चिकित्सा शिक्षा निदेशक डॉ आशुतोष सयाना ने कहा कि प्रवेश एवं शुल्क नियामक समिति निजी कॉलेजों को फीस के बारे में हिदायत दे चुकी है। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर गठित इस कमेटी को फीस निर्धारण का अधिकार है। समिति ने श्री गुरु राम राय काॅलेज को इसके लिए नोटिस भी भेज चुकी है।  

Todays Beets: