Monday, April 23, 2018

Breaking News

   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||   रेलवे की 90 हजार नौकरियों के आवेदन की आज लास्ट डेट, दो करोड़ 80 लाख कर चुके हैं अप्लाई     ||   कांग्रेस में बड़ा बदलाव: जनार्दन द्विवेदी की छुट्टी, गहलोत बने नए AICC महासचिव     ||   भारत ने चीन की तिब्बत सीमा पर भेजे और सैनिक, गश्त भी बढ़ाई     ||   अब कॉल सेंटर की नौकरियों पर नजर, अमेरिकी सांसद ने पेश किया बिल     ||   ब्लूमबर्ग मीडिया का दावा, 2019 छोड़िए 2029 तक पीएम रहेंगे नरेंद्र मोदी     ||   फेसबुक को डेटा लीक मामले से लगा तगड़ा झटका, 35 अरब डॉलर का नुकसान     ||

साल 2015 में ऊर्जा निगम में हुई भर्ती परीक्षा को सरकार ने किया निरस्त, जांच में मिली गड़बड़ी के बाद दिए आदेश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
साल 2015 में ऊर्जा निगम में हुई भर्ती परीक्षा को सरकार ने किया निरस्त, जांच में मिली गड़बड़ी के बाद दिए आदेश

देहरादून। राज्य सरकार ने ऊर्जा निगम में साल 2015 में हुई भर्ती परीक्षा को निरस्त कर दिया है। भर्ती प्रक्रिया की पारदर्शिता पर सवाल उठने के बाद ऊर्जा सचिव की ओर से नए सिरे से भर्ती परीक्षा कराने के निर्देश दिए गए। बता दें कि साल 2015 में ऊर्जा निगम में लेखाधिकारी, विधि अधिकारी और सहायक अभियंता विद्युत एवं यांत्रिक के खाली पदों पर भर्ती परीक्षा कराने का जिम्मा गाजियाबाद की एबीसी असेसमेंट कंपनी को दिया गया था लेकिन परीक्षा खत्म होने के बाद अनियमिताओं की खबर आई थी। 

जांच में पता चली गड़बड़ी

गौरतलब है कि ऊर्जा निगम की परीक्षा में अनियमितताओं की शिकायत आने के बाद इसकी जांच के आदेश दिए गए और अपर सचिव ऊर्जा को जांच अधिकारी बनाया गया। उनकी जांच रिपोर्ट में इस बात की पुष्टि हुई कि भर्ती परीक्षा में पारदर्शिता नहीं बरती गई।

ये भी पढ़ें - LIVE - गुजरात चुनाव - दोपहर 12 बजे तक 23 फीसदी मतदान, पीएम मोदी ने राणिप बूथ पर लाइन में लगकर...


परीक्षा निरस्त करने के आदेश

आपको बता दें कि लंबे समय से शासन में अपर सचिव की जांच रिपोर्ट भी डंप रही और इस परीक्षा भर्ती के परिणाम जारी नहीं किए जा रहे थे और न ही परीक्षा को निरस्त ही किया जा रहा था। ऐसे में  बेरोजगार युवाओं का दबाव लगातार सरकार पर बढ़ रहा था। ऐसा माना जा रहा कि त्रिवेंद्र रावत सरकार की ओर से भर्ती परीक्षा को निरस्त किए जाने के आदेश किए गए। सचिव ऊर्जा की ओर से यह आदेश जारी हुए। ऊर्जा निगम के प्रबंध निदेशक को भविष्य में भर्ती प्रक्रिया पारदर्शी तरीके से पूरी करने को भी कहा गया है।

Todays Beets: