Monday, January 22, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

पहाड़ों से होने वाले पलायन पर लगेगी रोक, सरकार ने विशेषज्ञों की बनाई कमेटी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पहाड़ों से होने वाले पलायन पर लगेगी रोक, सरकार ने विशेषज्ञों की बनाई कमेटी

देहरादून। पहाड़ों से होने वाले पलायन को रोकने के लिए त्रिवेन्द्र रावत सरकार कई कदम उठा रही है। अब सरकार की तरफ से वहां के मसालों और पहाड़ों में उगने वाली जड़ी-बूटियों पर ध्यान केन्द्रित करने जा रही है। इसके लिए सरकार की तरफ से तीन कमेटी भी गठित कर दी गई है। त्रिवेन्द्र रावत सरकार ने अब नौजवानों की मदद के लिए फल-पौधशाला कानून और नियमावली बनाने की तैयारी कर रही है।

 

विशेषज्ञों की कमेटी

गौरतलब है कि उत्तराखंड में पहाड़ी इलाकों से होने वाला पलायन हमेशा से एक बड़ा मुद्दा रहा है। त्रिवेन्द्र रावत सरकार ने अब ऐसे नौजवानों की मदद के लिए फल-पौधशाला कानून और नियमावली बनाने की तैयारी कर रही है। इसके लिए लिए विशेषज्ञों की अलग-अलग कमेटियां भी बना दी गई हैं। इस समिति को 15 दिन के भीतर रिपोर्ट देनी होगी। उद्यान निदेशक डॉ. बीएस नेगी इसके अध्यक्ष बनाए गए हैं। इसके अलावा फल-सब्जी और जड़ी-बूटी के विशेषज्ञ नृपेंद्र चौहान, डॉ. बीपी नौटियाल, डॉ. एसके सिंह, डॉ. डीसी डिमरी, डॉ. आरके सिंह और डॉ. बीपी भट्ट को समिति सदस्य बनाया है।


ये भी पढ़ें - उत्तरकाशी में गंगा नदी पर बना पुल टूटा, भारत-चीन सीमा और हर्षिल घाटी से संपर्क कटा

निवेशकों को आकर्षित करने में मदद

आपको बता दें कि राज्य में जड़ी-बूटी, कृषि और चाय के विकास के लिए अपर सचिव उद्यान की अध्यक्षता में एक कमेटी बनाई गई है। इस समिति में उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण चौबटिया, जड़ी-बूटी शोध एवं विकास संस्थान गोपेश्वर, चाय विकास बोर्ड के निदेशकों के साथ ही भेषज इकाई के सीईओ, सगंध पौधा केंद्र सेलाकुई के वैज्ञानिक प्रभारी और सचिव राजस्व की ओर से नामित प्रतिनिधि सदस्य होंगे। ऐसा होने से पलायन को रोकने और निवेशकों को राज्य में आकर्षित करने में मदद मिलेगी।

Todays Beets: