Saturday, December 16, 2017

Breaking News

   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद     ||   अश्विन ने लगाया विकेटों का सबसे तेज 'तिहरा शतक', लिली को छोड़ा पीछे     ||   पूरा हुआ सपना चौधरी का 'सपना', बेघर होने के साथ बॉलीवुड से मिला बड़ा ऑफर    ||   PAK सरकार ने शर्तें मानीं, प्रदर्शन खत्म करने कानून मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा    ||   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||

बाजार से 500 करोड़ का ऋण लेकर सरकार कर्मचारियों का घर कर रही रोशन, राजस्व पर पड़ रहा अतिरिक्त बोझ

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बाजार से 500 करोड़ का ऋण लेकर सरकार कर्मचारियों का घर कर रही रोशन, राजस्व पर पड़ रहा अतिरिक्त बोझ

देहरादून। राज्य सरकार अपने कर्मचारियों को दिवाली का गिफ्ट देकर भले ही जनता की सहानुभूति बटोर रही है लेकिन इससे उसकी माली हालत और ज्यादा खराब हो गई है। कर्मचारियों को बोनस और सातवें वेतनमान का फायदा देने के लिए सरकार को बाजार से 500 करोड़ रुपये का कर्ज लिया है। अब तक सरकार बाजार से 2700 करोड़ का कर्ज उठा चुकी है।

वेतन पर खर्च हो रहा बजट का हिस्सा

गौरतलब है कि उत्तराखंड सरकार पहले भी जनता को फायदा पहुंचाने के लिए कर्ज लेना पड़ा है। सरकार भले ही जनता पर मेहरबान नजर आ रही है लेकिन उसकी यह मेहरबानी काफी महंगी साबित हो रही है। एक महीने के अंदर सरकार को दो बार कर्ज लेना पड़ा। पिछले महीने ही सरकार ने 400 करोड़ और 500 करोड़ का ऋण लिया था। अब इस महीने भी ऐसी ही नौबत नजर आ रही है। राज्य के कुल बजट का करीब 83 फीसदी हिस्सा सिर्फ कर्मचारियों को वेतन और भत्ता देने पर ही खर्च हो रहा है।

ये भी पढ़ें - ऊधमसिंह नगर में पिकअप वाहन और बाइक की हुई भिडंत, गंभीर रूप से घायल युवकों को अस्पताल में कराय...


कर्ज का बोझ 

आपको बता दें कि राज्य सरकार सातवें वेतनमान का लाभ अब निगमों-उपक्रमों को भी देने जा रही है जबकि बीते दिन मंत्रिमंडल ने राज्य की जिला पंचायतों और निकायों को भी सातवां वेतन देने के फैसले पर मुहर लगा दी है। सरकार के इस फैसले से सरकारी खजाने पर वित्तीय बोझ काफी बढ़ गया है। वित्तीय बोझ को पूरा  करने के लिए सरकार को बाजार से ऋण लेना पड़ रहा है। बता दें कि राज्य में इतने संसाधन नहीं हैं जिसके बल पर राज्य सरकार अपने सभी खर्च पूरे कर सके। गौर करने वाली बात है कि रिजर्व बैंक ने राज्य के लिए चालू वित्तीय वर्ष में कर्ज की सीमा 5850 करोड़ से बढ़ाकर 6422 करोड़ कर दी है। इससे सरकार को थोड़ी राहत तो मिली है लेकिन उसके कर्ज का बोझ बढ़ता जा रहा है। सरकार चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में ही 2200 करोड़ का ऋण ले चुकी है ऐसे में 500 करोड़ के और ऋण से कर्ज 2700 करोड़ रुपये का हो जाएगा।

Todays Beets: