Wednesday, August 15, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

उत्तराखंड में अब फिल्मों की शूटिंग होगी मुफ्त, स्थानीय लोगों को मिलेगा रोजगार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड में अब फिल्मों की शूटिंग होगी मुफ्त, स्थानीय लोगों को मिलेगा रोजगार

देहरादून। उत्तराखंड की खूबसूरत वादियां हमेशा से फिल्म निर्माताओं को अपनी ओर आकर्षित करती रहीं हैं। इसे और बढ़ावा देने के लिए सरकार की तरफ से भी कोशिशें तेज कर दी गई हैं। अब यहां बनने वाली फिल्मों के लिए कोई शूटिंग शुल्क नहीं लिया जाएगा। हां अगर शूटिंग स्थल पर यदि पहले से ही कोई प्रवेश, पार्किंग या अन्य कोई शुल्क निर्धारित हो तो फिल्म निर्माताओं को उसे वहन करना पड़ेगा। सरकार की ओर से इसके शासनादेश जारी कर दिए गए हैं। 

गौरतलब है कि उत्तराखंड फिल्म नीति-2015 में संशोधन करते हुए शूटिंग शुल्क को खत्म करने का फैसला लिया गया है। बता दें कि पहले क्षेत्रीय भाषाओं में बनने वाली फिल्मों की शूटिंग के लिए एकमुश्त 15 हजार रुपये प्रतिमाह तथा अन्य फिल्मों के लिए प्रतिदिन 10 हजार रुपये का शुल्क निर्धारित था। अब इसमें बदलाव किया गया है। 


ये भी पढ़ें - कार्यशाला और जन भागीदारी से होगी प्रदेश में जंगलों की सुरक्षा मुमकिन- त्रिवेन्द्र रावत

आपको बता दें कि सूचना एवं लोक संपर्क विभाग की ओर से जारी किए गए निर्देशों में स्पष्ट कहा गया है कि फिल्म की शूटिंग के लिए सिंगल विंडो सिस्टम के अतिरिक्त कोई अन्य शुल्क नहीं लिया जाएगा। शूटिंग शुल्क न लेने का फैसला कुछ समय पहले ही कैबिनेट की बैठक में लिया गया था। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा था कि प्रदेश में शूटिंग को बढ़ावा देने के लिए यह कदम उठाया गया है।  मुख्यमंत्री ने माना कि शूटिंग के लिए बाहर से आने वाले टीमों के चलते स्थानपीय लोगों को रोजगार भी मिलता है। शूटिंग शुल्क माफ होने से अब ज्यादा संख्या में फिल्म निर्माता प्रदेश का रुख करेंगे। ऐसे में लोगों को रोजगार भी मिलेगा। 

Todays Beets: