Friday, October 20, 2017

Breaking News

   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||

भंग होंगी 97 सहकारी समितियां, सिर्फ चुनावी मकसद से बनी समितियों पर होगी कार्रवाई

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भंग होंगी 97 सहकारी समितियां, सिर्फ चुनावी मकसद से बनी समितियों पर होगी कार्रवाई

देहरादून। राज्य सरकार ने 97 सहकारी समितियों को भंग करने का निर्णय लिया है। सहकारिता मंत्री डाॅक्टर धन सिंह रावत ने साफ तौर पर कहा है कि सरकार का मकसद समितियों को सक्रिय करना है सिर्फ चुनाव लड़ने के मकसद से बनाई गई समितियों पर कार्रवाई की जाएगी। बता दें कि जांच में सहकारी संघ से जुड़ी ये सभी समितियां निष्क्रिय पाई गई हैं और उनसे किसी तरह का लेन-देन नहीं किया जाता है। 

एक सप्ताह के भीतर मांगा जवाब

गौरतलब है कि राज्य सहकारी संघ से जुड़ी समितियों को भंग करने की तैयारी के साथ ही राज्य सहकारी संघ से सदस्यता खत्म करने के नोटिस भी जारी कर दिए गए हैं। यहां बता दें कि सहकारिता मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने राज्य में निष्क्रिय सहकारी समितियों को लेकर जांच के निर्देश दिए थे। सहकारिता के निबंधक को इसकी जिम्मेदारी दी गई थी, सोयाबीन फैक्ट्री हल्दूचैड़ साथ ही कॉपरेटिव ड्रग्स फैक्ट्री रानीखेत की जांच कराई गई। इसमें पाया गया कि ये समितियां क्रय-विक्रय समितियां नहीं हैं और इन समितियों को संघ के नियमों के विपरीत पाया गया है। इन समितियों से एक सप्ताह के अंदर जवाब देने को कहा गया है। 

ये भी पढ़ें - राज्य के कारोबारियों को मिल सकती है बड़ी राहत, हो सकते हैं जीएसटी के दायरे से बाहर 


संघ के अध्यक्ष भी हटेंगे

आपको बता दें कि 97 समितियों के भंग होने से राज्य सहकारी संघ का गणित भी बिगड़ जाएगा। ऐसे में न सिर्फ मौजूदा बल्कि आने वाले समय में होने वाले चुनाव भी प्रभावित होंगे। समिति के भंग होने से इससे चुनकर आए प्रतिनिधियों की सदस्यता भी खत्म हो जाएगी। ऐसा हुआ तो राज्य सहकारी संघ के अध्यक्ष पद से प्रमोद कुमार सिंह को भी सरकार हटा सकती है क्योंकि वह खुद इन समितियों के द्वारा ही चुनकर पहुंचे हैं।

 

Todays Beets: