Sunday, May 27, 2018

Breaking News

   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||

डाॅक्टरों को पहाड़ चढ़ाने के लिए सरकार ने दिया अनोखा आॅफर, पीजी में 30 फीसदी वेटेज देने का लिया फैसला

अंग्वाल न्यूज डेस्क
डाॅक्टरों को पहाड़ चढ़ाने के लिए सरकार ने दिया अनोखा आॅफर, पीजी में 30 फीसदी वेटेज देने का लिया फैसला

देहरादून। राज्य में स्वास्थ्य सेवा को बेहतर बनाने के लिए सरकार की तरफ से कई कोशिशें की जा रहीं हैं। सरकार ने राज्य के मेडिकल काॅलेज से बाॅन्ड के आधार पर शिक्षा हासिल करने वाले डाॅक्टरों के लिए 5 साल पहाड़ों में सेवा देना अनिवार्य कर दिया है। इसके बावजूद डाॅक्टर पहाड़ चढ़ने से इंकार करते रहे। अब सरकार ने इस तरह के डाॅक्टरों को 5 साल पहाड़ों में सेवा देने पर पीजी में 30 फीसदी वेटेज देने का फैसला लिया है ताकि ज्यादा से ज्यादा डाॅक्टरों को पहाड़ी इलाकों में सेवा देने के लिए तैयार किया जा सके।

डाॅक्टरों को लुभाने की कोशिश

गौरतलब है कि राज्य के सरकारी मेडिकल कॉलेजों से अभी तक 850 से अधिक बॉन्डधारी डॉक्टर पासआउट हो चुके हैं लेकिन, इनमें से महज 244 डॉक्टर ही पहाड़ पर कार्यरत हैं। कम फीस देकर शिक्षा हासिल करने के बावजूद डाॅक्टरों के पहाड़ों में सेवा से इंकार करने से सरकारी योजना को एक बड़ा धक्का लगा है। अब सरकार ने डाॅक्टरों को लुभाने का नया प्रयास शुरू कर दिया है। 

ये भी पढ़ें - अप्रशिक्षित शिक्षकों के भविष्य पर लटकी तलवार, मामला न सुलझने पर उग्र आंदोलन की चेतावनी


नए सिरे से लागू करने का प्रयास

आपको बता दें कि सरकार की तरफ से डाॅक्टरों को पहाड़ चढ़ाने के लिए उन्हें पीजी में 30 फीसदी वेटेज देने का फैसला लिया है। चिकित्सा शिक्षा निदेशालय की ओर से तैयार प्रस्ताव के तहत पीजी के लिए बॉन्डधारी डॉक्टरों को पांच साल की जरूरी सेवा पर अधिकतम 30 फीसदी वेटेज दिया जाएगा। गौर करने वाली बात है कि राज्य में पीजी की कुछ ही सीटें हैं जिसकी वजह से डाॅक्टरों को बहुत कम मौका मिल पाता है। बता दें कि एक बार पहले भी राज्य में यह व्यवस्था की गई थी, लेकिन बाद में इसे खत्म कर दिया गया। अब नए सिरे से इसे लागू किया जा रहा है।

 

Todays Beets: