Tuesday, November 20, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

जल्द ही तबादला विवाद को सुलझाएगी प्रदेश सरकार, विभागों से मांगे सुझाव

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जल्द ही तबादला विवाद को सुलझाएगी प्रदेश सरकार, विभागों से मांगे सुझाव

देहरादून। उत्तराखंड में तबादला एक्ट लागू होने के बाद से विवाद शुरू हो गया था। तबादले पर लगातार बढ़ रहे विवाद के बीच सरकार ने अब वार्षिक स्थानांतरण अधिनियम-2017 में संशोधन करने का फैसला लिया है। राज्य के कई विभागों में अधिनियम की धाराओं को लेकर संशय की स्थिति बनी हुई है। लगातार मिल रही शिकायतों के बाद कार्मिक विभाग ने अब सभी विभागों से 15 दिनों के अंदर सुझाव मांगे हैं ताकि एक साथ ही संशोधन किए जा सकें। अपर मुख्य सचिव (कार्मिक) राधा रतूड़ी की ओर से सभी मुख्य सचिवों, अपर सचिवांे के अलावा जिलाधिकारियों को इसके आदेश जारी कर दिए गए हैं। 

गौरतलब है कि अपर मुख्य सचिव की ओर से जारी किए गए पत्र में कहा गया है कि जनवरी 2018 में तबादला अधिनियम लागू किया है और तब से ही विभागों द्वारा अधिनियम की विभिन्न धाराओं को लेकर कार्मिक विभाग से स्पष्टीकरण मांगे जाते रहे हैं। इस बात को ध्यान में रखते हुए कार्मिक विभाग ने सभी विभागों को 15 दिनों का समय देते हुए कहा कि वे अपने सुझाव दें ताकि अधिनियम में संशोधन किया जा सके। 

ये भी पढ़ें - जल्द ही आएंगे किसानों के अच्छे दिन, सरकार बढ़ा सकती है खरीफ फसलों की एमएसपी 

बता दें कि तबादला एक्ट लागू होने के बाद से इस पर विवाद शुरू हो गया था। लोक निर्माण विभाग में तबादले को लेकर अधिशासी अभियंता और सहायक जूनियर इंजीनियरों का आंदोलन काफी लंबा चला। कर्मचारी संगठन भी विभागीय स्तर पर एक्ट के उल्लंघन की शिकायतें कर रहे हैं। इसके अलावा आवश्यक सेवाओं से जुड़े विभाग छूट की मांग कर रहे हैं। 


गौर करने वाली बात है कि डॉक्टरों के तबादलों को इस कानून के दायरे से बाहर रखा गया है। वहीं आबकारी विभाग तबादलों को लेकर अलग नीति बना रहा है, सुगम और दुर्गम के अलग-अलग निर्धारण को लेकर भी भ्रम की स्थिति बनी हुई है। लोक निर्माण विभाग, समाज कल्याण विभाग समेत कुछ विभागों के कर्मचारी तो तबादलों के विरोध में अदालत तक जा पहुंचे हैं। इस तबादला अधिनियम में संशोधन की बात पर कर्मचारी संगठनों का कहना है कि इस मसले पर उनकी भी राय ली जानी चाहिए। 

 

Todays Beets: