Sunday, July 22, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

रेफरेंस बुक को लेकर नहीं चलेगी मनमानी, अनावश्यक किताबें देने पर होगी कार्रवाई

अंग्वाल न्यूज डेस्क
रेफरेंस बुक को लेकर नहीं चलेगी मनमानी, अनावश्यक किताबें देने पर होगी कार्रवाई

देहरादून। एनसीईआरटी की किताबों को राज्य में सरकार और निजी प्रकाशकों के बीच तनातनी जारी है। एनसीईआरटी की किताबों को लागू करने पर हाईकोर्ट से राहत चुकी सरकार अब रेफरेंस बुक को लेकर पर प्रकाशकों पर लगाम लगाने की तैयारी कर रही है। हाईकोर्ट से रेफरेंस बुक लगाने की रियायत पा चुके निजी स्कूल महंगी किताबें लागू करने की राह तलाश रहे हैं। उधर सरकार ने साफ किया है कि बेहद जरूरी रेफरेंस बुक ही स्वीकार होंगी एवं उनका दाम भी एनसीईआरटी किताबों के मूल्य के आसपास होना चाहिए। शिक्षा मंत्री ने कहा कि अनावश्यक किताबें देने पर कार्रवाई होगी।

गौरतलब है कि हाईकोर्ट ने 13 अप्रैल को अंतरिम आदेश देते हुए निजी प्रकाशकों को रेफरेंस बुक लगाने की छूट दी थी। इसके साथ ही इस बात का भी निर्देश दिया था कि किताबों की कीमतें एनसीईआरटी की किताबों से ज्यादा नहीं होनी चाहिए। निजी प्रकाशकों ने भी कोर्ट के सामने इस बात को माना था, अब इस बात के यह मायने निकाले जा रहे हैं कि प्रकाशक किताब में पेज की संख्या बढ़ाकर ज्यादा पैसे वसूल सकते हैं। 

ये भी पढ़ें - मरीजों को अब बार-बार नहीं आना पड़ेगा अस्पताल, जरूरी दवाओं की होगी ‘होम डिलीवरी’


ऐसे में सरकार का कहना है कि प्रकाशक ऐसा कर छात्रों पर किताबों का बोझ बढ़ा सकते हैं। इस वजह से अब उन पर सख्ती जरूरी है। शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने कहा कि किताबें हाईकोर्ट के आदेश के अनुसार उन्हीं किताबों के रेफरेंस बुक लगाने की इजाजत होगी जो बहुत ज्यादा जरूरी हो। अनावश्यक किताबें देने पर कार्रवाई की जाएगी। 

Todays Beets: