Tuesday, August 14, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

महंगी रेफ्रेंस बुक खरीदवाने वाले स्कूलों में कसेगा शिकंजा, 17 अधिकारियों की टीम की गई गठित

अंग्वाल न्यूज डेस्क
महंगी रेफ्रेंस बुक खरीदवाने वाले स्कूलों में कसेगा शिकंजा, 17 अधिकारियों की टीम की गई गठित

देहरादून। राज्य  के सभी स्कूलों में एनसीईआरटी की किताबों को लागू करने के बाद रेफ्रेंस बुक को लेकर प्राईवेट स्कूलों की मनमानी पर शिकंजा कसने की तैयारी शुरू कर दी गई है। बताया जा रहा है कि हाईकोर्ट द्वारा प्रतिबंध लगाए जाने के बाद भी निजी स्कूल छात्रों से जानबूझकर महंगी रेफ्रेंस बुक खरीदवा रहे हैं। शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने अधिकारियों की टीम बनाकर स्कूलों में इस्तेमाल की जा रही रेफ्रेंस बुक की जांच करने को कहा है। ये अधिकारी स्कूलों में एनसीईआरटी के मुख्य पाठ्यक्रम के साथ लगाई जा रही रेफ्रेंस किताबों की जांच करेंगे।

गौरतलब है कि अधिकारियों द्वारा की जाने वाली जांच की हर तीसरे दिन समीक्षा की जाएगी। कुल 17 अफसरों की टीम बनाई गई है। मुख्य शिक्षा अधिकारी एसबी जोशी जांच टीम गठित करने के आदेश दिए हैं। यहां बता दें कि केंद्रीय मानव संसाधन मंत्रालय की ओर से सभी स्कूलों में एनसीईआरटी की किताबें लागू करने के निर्देश दिए थे। प्राईवेट स्कूलों ने इसका काफी विरोध भी किया था। निजी स्कूल सरकार के इस फैसले के विरोध में हाईकोर्ट चले गए थे। उनका कहना था कि एनसीईआरटी की किताबों में पर्याप्त सामग्री न होने के कारण छात्रों को अपेक्षित ज्ञान नहीं मिल पाता है। इसके बाद कोर्ट ने उन्हें रेफ्रेंस बुक लगाने के निर्देश दिए थे साथ ही यह भी कहा था कि किताबों की कीमत ज्यादा नहीं होनी चाहिए। 

ये भी पढ़ें - उत्तराकाशी और चमोली में भूस्खलन का सिलसिला जारी, गंगोत्री हाईवे बंद 

यहां बता दें कि छात्रों और अभिभावकों के द्वारा लगातार ये शिकायतें मिल रही है कि कुछ प्राईवेट स्कूल हाईकोर्ट के आदेश का उल्लंघन कर रहे हैं। बता दें कि हाईकोर्ट ने स्कूलों के द्वारा महंगी किताबों के लगाने पर रोक लगाई हुई है। शिकायतों के बाद शिक्षा मंत्री ने 17 अधिकारियों की एक टीम गठित की है जो स्कूलों में जाकर किताबों की जांच करेगी। हाईकोर्ट के आदेश का उल्लंघन पाए जाने पर स्कूलों पर कार्रवाई की जाएगी। 

टीम गठित


देहरादून शहर- सीईओ एसबी जोशी, डीईओ-माध्यमिक, डीईओ बेसिक

डोईवाला- आरएस राणा, विजेंद्र सिंह नेगी,

विकासनगर- वीपी सिंह, अवनिंद्र बड़थ्वाल, एमएस चैहान,

सहसपुर- पंकज शर्मा, एके तिवारी, सतेंद्र कुमार जोशी

रायपुर-  एसएस तोमर, प्रकाश चंद्र जुयाल, हेमंती नौटियाल 

 

Todays Beets: