Saturday, March 23, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

अतिथि शिक्षकों ने एक बार फिर सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा, आंदोलन की दी चेतावनी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अतिथि शिक्षकों ने एक बार फिर सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा, आंदोलन की दी चेतावनी

देहरादून। उत्तराखंड सरकार की मुश्किलें एक बार फिर से बढ़ सकती हैं। राज्य के हजारों अतिथि शिक्षकों ने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर बुधवार तक उनकी पुर्ननियुक्ति का रास्ता साफ नहीं हुआ तो अतिथि शिक्षक एक बार फिर आंदोलन करने के लिए मजबूर हो जाएंगे। बता दें कि हाईकोर्ट के आदेश बाद ये अतिथि शिक्षक 31 मार्च के बाद बेरोजगार हो गए हैं। हालांकि सरकार ने इन्हें पुनर्नियुक्ति का आश्वासन तो दिया है लेकिन अभी तक उनके बारे मंे कोई पुख्ता कदम नहीं उठाए गए हैं।

गौरतलब है कि राज्य में कांग्रेस के शासनकाल में शिक्षा व्यवस्था में सुधार लाने के लिए अतिथि शिक्षकों की व्यवस्था शुरू की थी लेकिन हाईकोर्ट ने इस व्यवस्था को असंवैधानिक करार देते हुए पहले 31 मार्च 2018 के बाद से उनकी सेवाएं खत्म करने का आदेश दिया था। लगातार विरोध के बाद कोर्ट ने इन्हें कुछ दिनों की और मोहलत दे दी गई लेकिन कोई स्थाई समाधान नहीं निकाला गया। 

ये भी पढ़ें - देहरादून में बाबा ग्रुप के ठिकानों पर आयकर विभाग की छापेमारी जारी, लाखों रुपये वारे-न्यारे कर...


यहां बता दें कि बेरोजगार हो चुके करीब 5 हजार शिक्षकों ने कई बार सीएम और मंत्रियों से इस बारे में बात भी की गई है लेकिन अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है। अब इन शिक्षकों ने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर कोई समाधान नहीं निकला तो आंदोलन करने पर मजबूर हो जाएंगे।

 

Todays Beets: