Saturday, December 15, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

हजारों अतिथि शिक्षकों को मिल सकती है राहत, सरकार कोर्ट से एक साल के सेवा विस्तार का करेगी अनुरोध

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हजारों अतिथि शिक्षकों को मिल सकती है राहत, सरकार कोर्ट से एक साल के सेवा विस्तार का करेगी अनुरोध

देहरादून। राज्य के विभिन्न स्कूलों में तैनात अतिथि शिक्षकों को राहत मिल सकती है। प्रदेश सरकार हाईकोर्ट से इन शिक्षकों के लिए 1 साल के सेवाविस्तार दिए जाने की मांग कर सकती है। बता दें कि हाईकोर्ट के आदेश के अनुसार 31 मार्च को अतिथि शिक्षकों की सेवा अवधि समाप्त हो रही है। राज्य के शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने कहा कि वे कोर्ट से स्थाई शिक्षकों की नियुक्ति होने तक इन शिक्षकों को बहाल रखने का अनुरोध किया जाएगा। अगर कोर्ट सरकार की इस बात को मान लेती है तो करीब 5 हजार शिक्षकों को थोड़ी राहत मिल सकती है। 

 

गौरतलब है कि उत्तराखंड में शिक्षा व्यवस्था को सुधारने के मकसद से कांग्रेस के शासन काल में बड़ी संख्या में अतिथि शिक्षकों की भर्ती की गई थी। हाईकोर्ट ने इन शिक्षकों की नियुक्ति को असंवैधानिक बताया था और 31 मार्च 2018 के बाद इनकी सेवाएं समाप्त करने के आदेश दिए थे। इसके बाद शिक्षकों के भारी विरोध के बाद इन्हें 2 महीने की मोहलत दी गई थी। प्रदेश सरकार की तरफ से इन शिक्षकों को समायोजित करने की भी बात कही गई लेकिन कोई ठोस निर्णय नहीं हो पाया। 


ये भी पढ़ें - फर्जी दस्तावेजों पर नौकरी पाने वाले मदरसा शिक्षकों की भी होगी जांच, दोषियों पर दर्ज होगा मुकदमा

आपको बता दें कि राज्य में शिक्षकों की भारी कमी है जिसकी वजह से वहां की शिक्षा व्यवस्था चरमरा गई है। प्रदेश सरकार की तरफ से शिक्षकों की कमी को पूरा करने की कोशिश की जा रही है। इसके लिए करीब 900 से ज्यादा प्रवक्ता पद के लिए लोक सेवा आयोग को प्रस्ताव भेज दिया है। ऐसे में शिक्षा व्यवस्था को सुचारू रखने के लिए सरकार हाईकोर्ट से अतिथि शिक्षकों के लिए एक साल का सेवा विस्तार देने का अनुरोध करेगी।  

Todays Beets: