Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

पहाड़ के पलायन रोकने को हरित कौशल विकास योजना शुरू, युवाओं को कई प्रशिक्षण देकर स्वरोजगार पैदा करने की कोशिश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पहाड़ के पलायन रोकने को हरित कौशल विकास योजना शुरू, युवाओं को कई प्रशिक्षण देकर स्वरोजगार पैदा करने की कोशिश

देहरादून । केंद्र की मोदी सरकार ने उत्तराखंड में पलायन को रोकने के लिए अपनी कुछ रणनीतियों पर काम करना शुरू कर दिया है। इसी के तहत अब हिमालयी क्षेत्र में रहने वाले युवाओं में प्रकृति पर आधारित कौशल विकसित करके स्थानीय स्तर पर ही रोजगार के अवसर पैदा करने का निर्णय लिया है। केंद्र सरकार के वन पर्यावरण और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने देश के हिमालयी क्षेत्र में पलायन रोकने को युवाओं के लिए हरित कौशल विकास योजना शुरू की है। केंद्र की इस योजना के तहत अब देवभूमि के युवाओं में प्रकृति से जुड़े कौशल विकसित कर रोजगार के अवसर पैदा किए जाएंगे।

शुरू हुआ प्राकृतिक पर्यटन का प्रशिक्षण

असल में जीबी पंत हिमालय पर्यावरण एवं विकास संस्थान की सिक्किम इकाई ने जनवरी से स्थानीय युवाओं के लिए प्राकृतिक पर्यटन का प्रशिक्षण शुरू किया है। वहीं जीबी पंत संस्थान कटारमल में जैव विविधता से संबंधित पंजिका तैयार करने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। हिमालय क्षेत्र के युवाओं को पिरूल से कोयला तैयार करने, बेमौसमी सब्जी उत्पादन सहित अन्य तरह के प्रशिक्षण दिए जाएंगे। 

केदारनाथ का जल्द बदला दिखेगा स्वरूप , मंदिर के पीछे पार्क में बैठकर निहार सकेंगे केदारपुरी का प्राकृतिक सौंदर्य 

शुरू होंगे हरित कौशल विकास कार्यक्रम


इसके लिए जीबी पंत हिमालय पर्यावरण एवं विकास संस्थान कोसी कटारमल (अल्मोड़ा) द्वारा उत्तराखंड, हिमाचल, सिक्किम सहित सभी हिमालयी राज्यों में हरित कौशल विकास कार्यक्रम शुरू किए जा रहे हैं। जीबी पंत संस्थान के निदेशक डॉ.आरएस रावल का कहना है कि संस्थान की सिक्किम इकाई द्वारा जनवरी से मार्च तक तीन सप्ताह के नेचर टूरिज्म प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले युवा क्षेत्र में घूमने आने वाले पर्यटकों को ईको पर्यटन, स्थानीय वनस्पतियों सहित प्रकृति से जुड़े विषयों आदि के बारे में जानकारी देकर गाइड के तौर पर आय अर्जित कर सकेंगे।  

पीएम MODI की बायोपिक के लिए लोकेशन देखने उत्तराखंड पहुंचे निर्देशक उमंग कुमार

पिरूल के इस्तेमाल का मिलेगा प्रशिक्षण

इसके अलावा हरित कौशल विकास योजना के अंतर्गत युवाओं को पिरूल से कोयला और पेपर बनाने और बेमौसमी सब्जी पैदा करने आदि का प्रशिक्षण भी मिलेगा। डाक्टर रावत का कहना है कि उनके संस्थान की हिमाचल प्रदेश शाखा द्वारा वहां के युवाओं को वनों में पैदा होने वाले हिसालु, किलमोड़ा आदि से जैम, मुरब्बा आदि बनाने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इस तरह के प्रशिक्षण देकर पहाड़ी क्षेत्र के युवाओं के लिए नए स्वरोजगार के अवसर पैदा किए जाएंगे। इन युवाओं को कौशल विकास का प्रशिक्षण देने से आने वाले सालों में कई बड़े बदलाव देखने को मिलेंगे।

रुद्रपुर से नाबालिग को बहला-फुसला कर ले गया तांत्रिक , कई दिनों तक किया दुष्कर्म- ब्लेकमेल

Todays Beets: