Monday, January 21, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

उत्तराखंड में हो रही बारिश बनी पहाड़ों के लिए खतरा, नैनीताल में हो रहा जबर्दस्त भूस्खलन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड में हो रही बारिश बनी पहाड़ों के लिए खतरा, नैनीताल में हो रहा जबर्दस्त भूस्खलन

देहरादून। उत्तराखंड के कुदरत के कहर का शिकार पहाड़ हो रहे हैं। देहरादून में मंगलवार की सुबह से ही तेज बारिश हो रही है। इससे जगह-जगह जलभराव की स्थिति पैदा हो गई है जिसका खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ रहा है। सड़कों पर गाड़ियों का लंबी कतार लग गई है। वहीं राज्य के मुख्य पर्यटन स्थल नैनीताल में बलिया नाले के किनारे बसे रईस होटल इलाके में जबर्दस्त भूस्खलन हो रहा है। पहाड़ों से लगातार गिर रहे मलबे ने पहाड़ों के किनारे रहने वालों की परेशानियां काफी बढ़ा दी हैं। 

गौरतलब है कि उत्तराखंड के कई इलाकों में लगातार तेज बारिश का दौर जारी है। राजधानी देहरादून से लेकर अन्य कई जिलों में बारिश के चलते छोटी-बड़ी सभी नदियां उफान पर आ गई हैं जिससे स्कूल जाने वाले बच्चों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। सड़कों पर भी पानी के तेज बहाव के बीच लोग जान जोखिम में डालकर अपनी मंजिल तक पहुंचने के लिए मजबूर हैं। 

ये भी पढ़ें - राज्य के 140 निजी स्कूलों को हाईकोर्ट के आदेश का उल्लंघन पड़ा महंगा, अब होगी कार्रवाई 


यहां बता दें कि प्रदेश के प्रमुख पर्यटन स्थल नैनीताल में भी तेज बारिश के चलते पहाड़ों के दरकने का सिलसिला जारी है। यहां बलिया नाले के किनारे बसे रईस होटल इलाके में जबर्दस्त भूस्खलन हो रहा है। ऐसे में नैनीताल के वजूद पर एक बड़ा खतरा मंडराने लगा है। सरकार की तरफ से भी पहाड़ों से होने वाले भूस्खलन को रोकने के लिए कोई बड़ा कदम नहीं उठाया जा रहा है। सरकार की कोशिशें सिर्फ इसकी जद में आने वाले परिवारों की पहचान कर उन्हें विस्थापित करने तक ही सीमित है। 

गौर करने वाली बात है कि कुछ दिनों पहले ही माल रोड के टूटने की घटना सामने आई थी और अब यह नई मुसीबत नैनीताल के वजूद पर सवाल उठाने लगी है। आपको बता दें कि नैनीताल का भविष्य बलिया नाले पर ही टिका है। यहां बड़े- बड़े स्रोतों से पानी का रिसाव हो रहा है जिसकी वजह से हो रहे भूस्खलन से हरिनगर और रईस होटल क्षेत्र में रहने वाले कई परिवारों पर संकट आ गया है।

Todays Beets: