Tuesday, March 26, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

उत्तराखंड में हो रही बारिश बनी पहाड़ों के लिए खतरा, नैनीताल में हो रहा जबर्दस्त भूस्खलन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड में हो रही बारिश बनी पहाड़ों के लिए खतरा, नैनीताल में हो रहा जबर्दस्त भूस्खलन

देहरादून। उत्तराखंड के कुदरत के कहर का शिकार पहाड़ हो रहे हैं। देहरादून में मंगलवार की सुबह से ही तेज बारिश हो रही है। इससे जगह-जगह जलभराव की स्थिति पैदा हो गई है जिसका खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ रहा है। सड़कों पर गाड़ियों का लंबी कतार लग गई है। वहीं राज्य के मुख्य पर्यटन स्थल नैनीताल में बलिया नाले के किनारे बसे रईस होटल इलाके में जबर्दस्त भूस्खलन हो रहा है। पहाड़ों से लगातार गिर रहे मलबे ने पहाड़ों के किनारे रहने वालों की परेशानियां काफी बढ़ा दी हैं। 

गौरतलब है कि उत्तराखंड के कई इलाकों में लगातार तेज बारिश का दौर जारी है। राजधानी देहरादून से लेकर अन्य कई जिलों में बारिश के चलते छोटी-बड़ी सभी नदियां उफान पर आ गई हैं जिससे स्कूल जाने वाले बच्चों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। सड़कों पर भी पानी के तेज बहाव के बीच लोग जान जोखिम में डालकर अपनी मंजिल तक पहुंचने के लिए मजबूर हैं। 

ये भी पढ़ें - राज्य के 140 निजी स्कूलों को हाईकोर्ट के आदेश का उल्लंघन पड़ा महंगा, अब होगी कार्रवाई 


यहां बता दें कि प्रदेश के प्रमुख पर्यटन स्थल नैनीताल में भी तेज बारिश के चलते पहाड़ों के दरकने का सिलसिला जारी है। यहां बलिया नाले के किनारे बसे रईस होटल इलाके में जबर्दस्त भूस्खलन हो रहा है। ऐसे में नैनीताल के वजूद पर एक बड़ा खतरा मंडराने लगा है। सरकार की तरफ से भी पहाड़ों से होने वाले भूस्खलन को रोकने के लिए कोई बड़ा कदम नहीं उठाया जा रहा है। सरकार की कोशिशें सिर्फ इसकी जद में आने वाले परिवारों की पहचान कर उन्हें विस्थापित करने तक ही सीमित है। 

गौर करने वाली बात है कि कुछ दिनों पहले ही माल रोड के टूटने की घटना सामने आई थी और अब यह नई मुसीबत नैनीताल के वजूद पर सवाल उठाने लगी है। आपको बता दें कि नैनीताल का भविष्य बलिया नाले पर ही टिका है। यहां बड़े- बड़े स्रोतों से पानी का रिसाव हो रहा है जिसकी वजह से हो रहे भूस्खलन से हरिनगर और रईस होटल क्षेत्र में रहने वाले कई परिवारों पर संकट आ गया है।

Todays Beets: