Friday, September 21, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

उत्तराखंड में हो रही बारिश बनी पहाड़ों के लिए खतरा, नैनीताल में हो रहा जबर्दस्त भूस्खलन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड में हो रही बारिश बनी पहाड़ों के लिए खतरा, नैनीताल में हो रहा जबर्दस्त भूस्खलन

देहरादून। उत्तराखंड के कुदरत के कहर का शिकार पहाड़ हो रहे हैं। देहरादून में मंगलवार की सुबह से ही तेज बारिश हो रही है। इससे जगह-जगह जलभराव की स्थिति पैदा हो गई है जिसका खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ रहा है। सड़कों पर गाड़ियों का लंबी कतार लग गई है। वहीं राज्य के मुख्य पर्यटन स्थल नैनीताल में बलिया नाले के किनारे बसे रईस होटल इलाके में जबर्दस्त भूस्खलन हो रहा है। पहाड़ों से लगातार गिर रहे मलबे ने पहाड़ों के किनारे रहने वालों की परेशानियां काफी बढ़ा दी हैं। 

गौरतलब है कि उत्तराखंड के कई इलाकों में लगातार तेज बारिश का दौर जारी है। राजधानी देहरादून से लेकर अन्य कई जिलों में बारिश के चलते छोटी-बड़ी सभी नदियां उफान पर आ गई हैं जिससे स्कूल जाने वाले बच्चों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। सड़कों पर भी पानी के तेज बहाव के बीच लोग जान जोखिम में डालकर अपनी मंजिल तक पहुंचने के लिए मजबूर हैं। 

ये भी पढ़ें - राज्य के 140 निजी स्कूलों को हाईकोर्ट के आदेश का उल्लंघन पड़ा महंगा, अब होगी कार्रवाई 


यहां बता दें कि प्रदेश के प्रमुख पर्यटन स्थल नैनीताल में भी तेज बारिश के चलते पहाड़ों के दरकने का सिलसिला जारी है। यहां बलिया नाले के किनारे बसे रईस होटल इलाके में जबर्दस्त भूस्खलन हो रहा है। ऐसे में नैनीताल के वजूद पर एक बड़ा खतरा मंडराने लगा है। सरकार की तरफ से भी पहाड़ों से होने वाले भूस्खलन को रोकने के लिए कोई बड़ा कदम नहीं उठाया जा रहा है। सरकार की कोशिशें सिर्फ इसकी जद में आने वाले परिवारों की पहचान कर उन्हें विस्थापित करने तक ही सीमित है। 

गौर करने वाली बात है कि कुछ दिनों पहले ही माल रोड के टूटने की घटना सामने आई थी और अब यह नई मुसीबत नैनीताल के वजूद पर सवाल उठाने लगी है। आपको बता दें कि नैनीताल का भविष्य बलिया नाले पर ही टिका है। यहां बड़े- बड़े स्रोतों से पानी का रिसाव हो रहा है जिसकी वजह से हो रहे भूस्खलन से हरिनगर और रईस होटल क्षेत्र में रहने वाले कई परिवारों पर संकट आ गया है।

Todays Beets: