Wednesday, September 26, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

भारी बारिश ने देहरादून में 4 लोगों की ली जान, बागेश्वर में पहाड़ी दरकने से दबी कई गाड़ियां

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भारी बारिश ने देहरादून में 4 लोगों की ली जान, बागेश्वर में पहाड़ी दरकने से दबी कई गाड़ियां

देहरादून। उत्तराखंड पर मौसम का कहर जारी है। प्रदेश के ज्यादातर इलाकों में इन दिनों भारी बारिश का दौर जारी है। मंगलवार देर रात से ही हो रही तेज बारिश के चलते बुधवार को देहरादून में एक मकान धराशायी हो गया जिसके नीचे दबने से  4 लोगों की मौत हो गई है। बता दें कि मौसम विभाग ने 11 और 12 जुलाई को भी राज्य के 6 जिलों में भारी बारिश की आशंका जताई है। इसमें कुमाऊं के 4 और गढ़वाल के 2 जिले शामिल हैं। बागेश्वर में भारी बारिश के कारण पहाड़ों के दरकने से कई गाड़ियां मलबे में दब गई हैं। 

गौरतलब है कि भारी बारिश की आशंका के मद्देनजर मौसम विभाग ने लोगों को खास सतर्कता बरतने की हिदायत दी है। मौसम विभाग के अनुसार बुधवार को पिथौरागढ़, बागेश्वर, चंपावत, नैनीताल, चमोली और रुद्रप्रयाग में भारी बारिश हो सकती है। विभाग के अनुसार राजधानी देहरादून में भी भारी बारिश हो सकती है।

ये भी पढ़ें - नैनीताल पेयजल समस्या के खिलाफ महिलाओं का हल्लाबोल, भारी बारिश भी प्यास बुझाने में नाकाम

यहां बता दें कि बागेश्वर जिले में कपकोट-पिंडारी ग्लेशियर, सौंग-खलीधार और कपकोट-कर्मी मार्ग समेत बारिश और मलबे से 13 सड़कें बंद हैं। भारी बाारिश के चलते सरयू नदी उफान पर है और बहाव के साथ आए भारी सिल्ट के चलते पंपिंग योजनाएं बाधित हो गई हैं। पंपिंग और फिल्टरेशन प्रभावित होने से कई क्षेत्रों में पेयजल आपूर्ति नहीं हो पा रही है। वहीं पिथौरागढ़ में भी बारिश ने तबाही मचाई हुई है। मदकोट में गोरी नदी के उफान में बालीबगड़ को जोड़ने वाले 2 पुल बह गए। अब


 

यहां करीब 10 गांवों को जोड़ने के लिए एकमात्र ट्रॉली का सहारा बचा है। पिथौरागढ़ में भारी बारिश के कारण 2 मकान ध्वस्त हो गए हैं।  गांव के 10 परिवारों ने लोदी गांव में ली शरण है। जौलजीबी-मदकोट सड़क डौलागाड़ के पास बह गई है। वहीं टनकपुर -पिथौरागढ़ हाईवे पर धौन के पास मलबा आने से आवाजाही बंद हो गई है। 

Todays Beets: