Monday, July 16, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

चमोली और मसूरी में हो रही भारी बारिश बनी मुसीबत, पहाड़ों से मलबा गिरने से यातायात ठप

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चमोली और मसूरी में हो रही भारी बारिश बनी मुसीबत, पहाड़ों से मलबा गिरने से यातायात ठप

देहरादून। मानसून की दस्तक के साथ ही उत्तराखंड में लोगों की मुसीबतें बढ़नी शुरू हो गई है। राज्य के कई इलाकों मंे लगातार हो रही मूसलाधार बारिश के कारण पहाड़ों से मलबा गिरने का सिलसिला जारी है। चमोली और मसूरी दोनों जगहों पर हो रही भारी बारिश के चलते पहाड़ों से मलबा गिरने से सड़कों पर गाड़ियों की रफ्तार थम सी गई है। बता दें कि इससे पहले सोमवार को भी पिथौरागढ़ में हुई भारी बारिश से दानीबगड़ डैम के टूटने से अलखनंदा और चंपावत में शारदा नदी का जलस्तर काफी बढ़ गया जिसमें खनन कर रहे कई मजदूर फंस गए थे।

गौरतलब है कि सोमवार को मुनस्यारी में बादल फटने से पिथौरागढ़ के कई इलाकों में पानी भर गया और नदियां उफान पर आ गई। मौसम विभाग ने अगले 3 दिनों तक 8 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी जारी कर चुका है। इसके साथ ही लोेगों को एहतियात बरतने की भी सलाह दी गई है। बता दंे कि सरकार की तरफ से आपदा की स्थिति से निपटने के लिए सभी संबंधित अधिकारियों को अलर्ट जारी कर दिया गया है। अधिकारियों को इस बात की सख्त हिदायत दी गई है कि किसी भी हालत में वे अपना मोबाइल फोन स्विच आॅफ नहीं करेंगे। 

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड में लोगों के लिए मौसम बनी आफत, मुनस्यारी में बादल फटने से भारी नुकसान, 8 जिलों में ...


यहां बता दें कि मुनस्यारी में बादल फटने के बाद दानीबगड़ (मोतीघाट) गाड़ में जलस्तर बढ़ने से हिमालयन हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट की 10 मेगावाट बिजली परियोजना का बांध टूट गया। इसके बाद पूरे पिथौरागढ़ शहर में पानी का तेज बहाव देखा गया। गोरी नदी के उफान में आने से धपवा-बसंतकोट सड़क में बन रहा निर्माणाधीन पुल क्षतिग्रस्त हो गया। मुनस्यारी के स्टेट बैंक के पास स्क्रबर बंद होने से शिशु मंदिर को जाने वाले मार्ग में पानी भर गया है।

Todays Beets: