Saturday, February 16, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

आने वाले 48 घंटे हो सकती है आफत की बारिश, भूस्खलन ने रोकी भक्तों की राह

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आने वाले 48 घंटे हो सकती है आफत की बारिश, भूस्खलन ने रोकी भक्तों की राह

देहरादून। उत्तराखंड के लोगों को मौसम का मिजाज अभी और परेशान करने वाला है। मौसम विभाग ने सोमवार और मंगलवार को भी भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है। मौसम विभाग ने चारधाम समेत राज्य के अन्य हिस्सों में भी बारिश की संभावना जताई है। बता दें कि प्रदेश में कई दिनों से लगातार भारी बारिश हो रही है। गंगोत्री, उत्तरकाशी और टिहरी में पहाड़ों से भारी भूस्खलन होने से सैंकड़ों संपर्क सड़कें अभी भी बंद पड़ी हैं। हालांकि प्रशासन की ओर से जेसीबी मशीनों को लगाकर रास्तों को खोलने का प्रयास किया जा रहा है। 

गौरतलब है कि राज्य के ज्यादातर हिस्सों में पिछले कई दिनों से भारी बारिश का  दौर जारी है। हरिद्वार और ऋषिकेश में गंगा नदी खतरे के निशान के करीब पहुंच गई है। ऐसे में कई घाटों के डूबने की खबरें भी आ रही हैं। टिहरी और उत्तरकाशी में लगातार पहाड़ों से मलबा गिरने से रास्ते बंद हो गए हैं। रास्तों के बंद होने से सैकड़ों की संख्या में कांवडिए भी फंस गए हैं। अब मौसम विभाग ने अगले 48 घंटों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। इससे लोगों के साथ ही कांवड़ियों की मुश्किलों में भी इजाफा कर दिया है।

ये भी पढ़ें - नैनीताल के ‘दीवान नाथ’ ने देश रक्षा में दिया सर्वोच्च बलिदान, मेघालय में उग्रवादियों से मुठभे...


यहां बता दें कि आज से सावन का महीना शुरू हो गया है और पहला सोमवार होने की वजह से बड़ी संख्या में कांवड़िए राज्य में आ रहे हैं लेकिन पहाड़ों से होने वाले भूस्खलन ने उनकी राह मुश्किलों से भर दी हैं। मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने कहा है कि कुमाऊं क्षेत्र के लिए  भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है। भारी बारिश की वजह से राज्य की 197 सड़कें बंद हो गई हैं। लोक निर्माण विभाग ने बताया कि सबसे अधिक सड़कें देहरादून, चमोली, टिहरी और पौड़ी जिलों में बंद हैं। विभाग की ओर से इन सभी सड़कों को खोलने का सिलसिला जारी है। 

Todays Beets: