Sunday, December 16, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

पहाड़ के स्कूलों में शिक्षकों की कमी पर हाईकोर्ट सख्त, सरकार से मांगा जवाब

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पहाड़ के स्कूलों में शिक्षकों की कमी पर हाईकोर्ट सख्त, सरकार से मांगा जवाब

देहरादून। उत्तराखंड के कई जिलों के स्कूलों में शिक्षकों की कमी पर हाईकोर्ट ने संज्ञान लेते हुए प्रदेश सरकार से जवाब मांगा है। अल्मोड़ा के अभिभावक संघ द्वारा हाईकोर्ट में कई जिले के इंटर काॅलेज और स्कूलों में शिक्षकों की भारी कमी है। कहीं पर छात्रों के मुताबिक शिक्षक नहीं हैं और कहीं पर प्रवक्ता समेत प्रिंसीपल तक के पद खाली पड़े हुए हैं। हाईकोर्ट ने इस याचिका पर सुनवाई करते हुए अब सरकार से इसकी रिपोर्ट मांगी है और यह भी पूछा है कि अपनी मांगों को लेकर आंदोलन कर रहे  शिक्षक अभी भी हड़ताल पर हैं?

गौरतलब है कि राज्य में अपनी मांगों को लेकर शिक्षक, राजकीय शिक्षक संघ के बैनर तले आंदोलन कर रहे हैं। शिक्षकों ने पूरी तरह से साफ कर दिया है कि जबतक उनकी मांगें पूरी नहीं की जाएंगी वे आंदोलन करते रहेंगे। शिक्षकों के आंदोलन की वजह से छात्रों की पढ़ाई के प्रभावित होने को लेकर एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए सरकार से जवाब मांगा था। 

ये भी पढ़ें - दौलतपुर में तेज रफ्तार ट्रक ने एक कांवड़िए को कुचला, गुस्साई भीड़ ने वाहन को किया आग के हवाले 


यहां बता दें कि एक तो प्रदेश में पहले से ही शिक्षकों की भारी कमी है। उसके बावजूद शिक्षक हड़ताल कर रहे हैं। अल्मोड़ा, पिथौरागढ़, बागेश्वर और कई जिलों के जीआईसी और स्कूलों में शिक्षकों से लेकर प्रवक्ता तक के कई पद खाली पड़े हुए हैं। जीआईसी मछियाड़ चम्पावत में कोई प्रवक्ता नहीं है और जीआईसी पीपली पिथौरागढ़ में 254 विद्यार्थी अध्ययनरत हैं लेकिन एक भी प्रवक्ता नहीं है। वहीं  जीआईसी रोड़ीपाली पिथौरागढ़ में प्रवक्ता के 10 पदों में से 8 खाली पड़े हुए हैं, अल्मोड़ा के जीआईसी भल्यूटा में प्रवक्ता के 9 पद खाली, बागेश्वर में जीआईसी भन्तोला में 20 विद्यार्थी व 2 शिक्षक हैं।

गौर करने वाली बात है कि हाईकोर्ट ने सरकार को नियमित शिक्षकों की नियुक्ति करने के आदेश दिए थे लेकिन अभी तक ऐसा नहीं किया गया है। अभिभावक संघ का कहना है कि शिक्षकों के अभाव में छात्र स्कूलों से पलायन करने पर मजबूर हैं। उन्होंने कोई वैकल्पिक इंतजाम करने का भी आग्रह किया है। यहां बता दें कि अपनी मांगों को लेकर आंदोलन करने वाले शिक्षकों पर भी सख्त दिखाते हुए उन्हें काम पर लौटने को कहा गया था। इस बात को लेकर भी कोर्ट ने सरकार से जवाब मांगा है कि क्या शिक्षक अभी भी हड़ताल पर हैं?

Todays Beets: