Monday, December 17, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

हाईकोर्ट ने प्रदेश सरकार को दिया झटका, निकायों का परिसीमन किया रद्द

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हाईकोर्ट ने प्रदेश सरकार को दिया झटका, निकायों का परिसीमन किया रद्द

देहरादून। नैनीताल हाईकोर्ट ने उत्तराखंड सरकार को एक बड़ा झटका दिया है। कोर्ट ने  राज्य में नगर पालिका और नगर निगमों के विस्तार को लेकर सरकार का पुराना नोटिफिकेशन निरस्त कर 48 घंटे के अंदर नए सिरे से अधिसूचना जारी करने के आदेश दिए हैं। मामले की सुनवाई कर रहे न्यायमूर्ति सुधांशु धूलिया की एकलपीठ ने संबंधित याचिकाकर्ताओं की सुनवाई के लिए एक सप्ताह का समय देने और उसके बाद 7 दिनों में शिकायतों का निपटारा करने के निर्देश दिए हैं। 

 

गौरतलब है कि नैनीताल हाईकोर्ट में 40 से अधिक गांवों को निकायों में शामिल करने के खिलाफ 39 से ज्यादा याचिकाएं दायर हो चुकी हैं। इस मामले में न्यायमूर्ति सुधांशु धूलिया की एकलपीठ द्वारा जब जानकारी मांगी गई तो महाधिवक्ता एसएन बाबुलकर ने कोर्ट को बताया कि सरकार सुनवाई का मौका देना चाहती है। इसके बाद कोर्ट ने प्रदेश सरकार के निकाय विस्तार के सभी शासनादेशों को रद्द करने के आदेश दे दिए। इसके साथ ही अगले 48 घंटे में नए सिरे से नोटिफिकेशन जारी कर उसका विज्ञापन भी निकालने के भी आदेश दिए हैं।  यहां बता दें कि हाईकोर्ट ने याचिकाकर्ताओं को सुनवाई के लिए सरकार को एक सप्ताह का समय देने को कहा है। इसके अगले सप्ताह ही शिकायतों के निस्तारण के आदेश दिए हैं। 

ये भी पढ़ें - कैलास मानसरोवर यात्रा पर जाने वालों को बड़ी राहत, पिथौरागढ़ से गुंजी तक मिलेगी एमआई 17 हेलीकाॅप...


इन निकायों को लेकर थी याचिकाएं 

हल्द्वानी, भवाली, भीमताल, कोटद्वार, विकासनगर, पिथौरागढ़ और चंबा आदि।

यहां गौर करने वाली बात है कि सुप्रीम कोर्ट के 2006 के फैसले के अनुसार प्रदेश में 4 मई तक नए निकायों का गठन किया जाना है। अब हाईकोर्ट के इस आदेश के बाद अप्रैल में चुनाव हो सकेंगे। 

Todays Beets: