Saturday, December 16, 2017

Breaking News

   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद     ||   अश्विन ने लगाया विकेटों का सबसे तेज 'तिहरा शतक', लिली को छोड़ा पीछे     ||   पूरा हुआ सपना चौधरी का 'सपना', बेघर होने के साथ बॉलीवुड से मिला बड़ा ऑफर    ||   PAK सरकार ने शर्तें मानीं, प्रदर्शन खत्म करने कानून मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा    ||   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||

प्रवक्ता पद पर तैनात अतिथि शिक्षकों को हाईकोर्ट ने दी राहत, मार्च 2018 तक व्यवस्था बनाए रखने के निर्देश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
प्रवक्ता पद पर तैनात अतिथि शिक्षकों को हाईकोर्ट ने दी राहत, मार्च 2018 तक व्यवस्था बनाए रखने के निर्देश

नैनीताल। राज्य के विभिन्न स्कूलों में प्रवक्ता के पद पर तैनात अतिथि शिक्षकों को हाईकोर्ट ने बड़ी राहत दी है। कोर्ट ने सरकार को मार्च 2018 तक इस व्यवस्था को जारी रखने के निर्देश दिए हैं।  हाईकोर्ट ने राज्य लोक सेवा आयोग को नियमित नियुक्ति के लिए जारी विज्ञापन पर जल्द कार्रवाई करने के भी निर्देश दिए हैं। मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति केएम जोसफ और न्यायमूर्ति आलोक सिंह की संयुक्त खंडपीठ ने मामले की सुनवाई की। 

प्रवक्ता पदों पर नियुक्ति बरकरार रखने के निर्देश

गौरतलब है कि प्रवक्ता पदों पर नियुक्ति को लेकर ललित मोहन और अन्य ने हाईकोर्ट में पुनर्विचार याचिका दायर की थी। याचिका में कहा गया था कि प्रदेश में शिक्षकों की कमी को देखते हुए हाईकोर्ट ने पूर्व में अतिथि शिक्षकों का कार्यकाल मार्च 2018 तक बढ़ाने के आदेश दिए थे, लेकिन इस आदेश में प्रवक्ता पदों को शामिल नहीं किया था। याची के एलटी पद पर तैनाती होने से उनके लिए ही आदेश जारी हुए, जबकि प्रवक्ता पदों पर भी यही स्थिति है। इसे देखते हुए प्रवक्ता अतिथि शिक्षकों की सेवाएं भी मार्च 2018 तक जारी रखने के आदेश पारित किए जाएं। 

ये भी पढ़ें -पौड़ी के इंटर काॅलेज में शिक्षकों की भारी कमी, छात्रों का भविष्य हो रहा अंधकारमय


नियमित नियुक्ति के निर्देश

आपको बता दें कि संयुक्त खंडपीठ ने सुनवाई के बाद प्रवक्ता पद पर तैनात अतिथि शिक्षकों के सेवा को मार्च 2018 तक बहाल रखने के निर्देश दिए हैं। इसके साथ ही सरकार को इस बात के भी निर्देश दिए हैं कि राज्य लोक सेवा आयोग को भी नियमित नियुक्ति के लिए जारी विज्ञापन पर जल्द कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।  

Todays Beets: