Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

हाईकोर्ट ने एनसीईआरटी की किताब लागू करने के फैसले को सही ठहराया, निजी प्रकाशकों को दी थोड़ी राहत

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हाईकोर्ट ने एनसीईआरटी की किताब लागू करने के फैसले को सही ठहराया, निजी प्रकाशकों को दी थोड़ी राहत

नैनीताल। नैनीताल हाईकोर्ट ने प्रदेश सरकार के सभी विद्यालयों में एनसीईआरटी की किताबें लागू करने के फैसले को सही ठहराते हुए निजी प्रकाशकों को थोड़ी राहत दी है। कोर्ट ने सरकार को अंतरिम राहत प्रदान करने के साथ ही 21 फरवरी तथा 9 मार्च को जारी शासनादेशों के क्रियान्वयन पर रोक लगा दी है। बता दें कि इन शासनादेशों में निजी प्रकाशकों के साथ सरकारी स्कूलों पर किताबें लागू नहीं करने पर कठोर कार्रवाई करने के आदेश और छापेमारी शामिल था। कोर्ट ने निजी प्रकाशकों से साफ कहा है कि यदि वह अपनी किताबें लागू करवाना चाहते हैं तो उन्हें किताबों की सूची व रेट लिस्ट राज्य सरकार तथा एनसीईआरटी को देनी होगी। 

ये भी पढ़ें - रुड़की में हुआ ब्यूटी पार्लर में काम करने वाली दलित महिला पर अत्याचार, मामला दर्ज कर जांच में ...

गौरतलब है कि राज्य सरकार ने 23 अगस्त 2017 को आईसीएससी बोर्ड को छोड़कर सभी सरकारी और निजी स्कूलों में एनसीईआरटी की पुस्तकें अनिवार्य कर निजी प्रकाशकों की किताबों पर प्रतिबंध लगा दिया था। इसके साथ ही आदेश का पालन न करने पर दंड का प्रावधान करते हुए 15 फरवरी, 6 मार्च और 9 मार्च 2018 को तीन अन्य शासनादेश जारी कर दिए। इसके बाद निजी स्कूलों और प्रकाशकों ने इन्हें हाईकोर्ट में चुनौती दी थी। कोर्ट में सीबीएसई और एनसीईआरटी ने भी सरकार का समर्थन किया था।

 


यहां बता दें कि सरकार ने इस शासनादेश की मुख्य वजह निजी विद्यालयों में निजी प्रकाशकों की ही किताबें महंगे दामों पर बेचा जाना बताई थी। उसका कहना था कि इससे अभिभावकों पर आर्थिक बोझ पड़ता है। सरकार ने सख्त रुख अपनाते हुए कहा था कि शिक्षा का व्यावसायीकरण के लिए यदि किसी स्कूल एवं दुकान में निजी प्रकाशकों की किताबें बेची या लागू की जाती हैं तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। 

 

अब इस मामले पर सुनवाई करते हुए न्यायाधीश न्यायमूर्ति सुधांशु धूलिया की एकलपीठ ने अंतरिम आदेश पारित करते हुए सरकार को बड़ी राहत प्रदान की। कोर्ट ने कहा कि यदि किसी विषय के लिए निजी प्रकाशक की किताब की बहुत ज्यादा जरूरत है तो उसका मूल्य एनसीईआरटी द्वारा प्रकाशित पुस्तक के मूल्य के आसपास होना चाहिए। अब इस मामले में अगली सुनवाई 3 मई को की जाएगी। 

Todays Beets: