Monday, April 22, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

प्रमुख सचिव वन के खिलाफ जमानती वारंट , SSP देहरादून को 22 अप्रैल को हाईकोर्ट में पेश करने के निर्देश

अंग्वाल संवाददाता
प्रमुख सचिव वन के खिलाफ जमानती वारंट , SSP देहरादून को 22 अप्रैल को हाईकोर्ट में पेश करने के निर्देश

देहरादून । नैनीताल हाईकोर्ट के मुख्य न्यायधीश रमेश रंगनाथन एवं न्यायमूर्ति एनएस धानिक की खंडपीठ के मंगलवार को प्रमुख सचिव वन के खिलाफ जमानती वारंट जारी किए हैं। इतना ही नहीं कोर्ट ने देहरादून के एसएसपी को निर्देश दिए हैं कि वह प्रमुख सचिव वन को आगामी 22 अप्रैल को कोर्ट में पेश करें। कोर्ट ने उनके खिलाफ जमानती वारंट बाघों के संरक्षण के मामले में शपथपत्र दाखिल नहीं किए जाने के बाद जारी किया है ।

बता दें कि बाघों के संरक्षण के मामले को लेकर ऑपरेशन आई ऑफ टाइगर इंडिया ने हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की गई थी, जिसपर आज फिर सुनवाई हुई । पूर्व में इस मामले में हाईकोर्ट ने केंद्र व राज्य सरकार को इस मामले में शपथपत्र दाखिल करने के निर्देश दिए थे। केंद्र ने शपथपत्र में कहा कि राज्यों को 2017 में ही टाइगर प्रोटेक्शन फोर्स बनाने के निर्देश दिए थे। इस मामले में जब कोर्ट ने राज्य सरकार से पूछा कि उन्होंने केंद्र के सर्कुलर पर क्या कार्यवाही की है, इस मामले में कोर्ट ने राज्य सरकार को 1 अप्रैल तक कोर्ट में शपथपत्र दाखिल करने के लिए कहा था ।

कांग्रेस उम्मीदवार मनीष खंडूरी बोले - मैं पिता के नाम का सहारा एक बार ही ले पाऊंगा , आगे तो अपने पैरों पर चलना होगा

इस मामले की सुनवाई के दौरान सरकार ने कोर्ट को बताया कि उनके द्वारा 20 मार्च को ही प्रमुख सचिव को पत्र भेज दिया था, जिसके बाद कोर्ट ने प्रमुख सचिव को 9 अप्रैल को कोर्ट में पेश होने को कहा था।


उत्तराखंड के युवाओं के लिए कोटद्वार में सेना की भर्ती रैली 3 से 17 जून तक , ऑनलाइन आवेदन के लिए यहां करें क्लिक

इस मामले में जब मंगलवार को फिर से सुनवाई हुई तो प्रमुख सचिव वन कोर्ट में पेश नहीं हुए, लेकिन उन्होंने अपर सचिव को भेज दिया। कोर्ट ने बिना हाजिर माफी का प्रार्थना पत्र दिए उनकी अनुपस्थिति को बेहद गंभीरता से लेते हुए प्रमुख सचिव के खिलाफ जमानती वारंट जारी कर दिया। साथ की कोर्ट ने देहरादून के एसएसपी को निर्देश दिए हैं कि वह 22 अप्रैल को प्रमुख सचिव वन को हाईकोर्ट में पेश करेंगे।

भाजपा उम्मीदवार रमेश पोखरियाल के नामांकन को हाईकोर्ट में फिर चुनौती , 12 अप्रैल को सुनवाई

Todays Beets: