Thursday, April 26, 2018

Breaking News

   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||   रेलवे की 90 हजार नौकरियों के आवेदन की आज लास्ट डेट, दो करोड़ 80 लाख कर चुके हैं अप्लाई     ||   कांग्रेस में बड़ा बदलाव: जनार्दन द्विवेदी की छुट्टी, गहलोत बने नए AICC महासचिव     ||   भारत ने चीन की तिब्बत सीमा पर भेजे और सैनिक, गश्त भी बढ़ाई     ||   अब कॉल सेंटर की नौकरियों पर नजर, अमेरिकी सांसद ने पेश किया बिल     ||   ब्लूमबर्ग मीडिया का दावा, 2019 छोड़िए 2029 तक पीएम रहेंगे नरेंद्र मोदी     ||   फेसबुक को डेटा लीक मामले से लगा तगड़ा झटका, 35 अरब डॉलर का नुकसान     ||

गंगा में हो रहे प्रदूषण पर हाईकोर्ट सख्त, केन्द्र और राज्य सरकार को जारी किया नोटिस

अंग्वाल न्यूज डेस्क
गंगा में हो रहे प्रदूषण पर हाईकोर्ट सख्त, केन्द्र और राज्य सरकार को जारी किया नोटिस

देहरादून। गंगा में हो रहे प्रदूषण पर हाईकोर्ट ने सख्त रुख अपनाया है। कोर्ट ने राज्य और केन्द्र दोनों सरकारों को नोटिस जारी करते हुए जवाब मांगा है। गंगा में हो रहे प्रदूषण पर स्वतः संज्ञान लेते हुए न्यायमूर्ति आलोक सिंह की एकलपीठ ने रजिस्ट्रार जनरल नरेंद्र दत्त को इस मामले को जनहित याचिका के रूप में दर्ज करने के निर्देश दिए हैं। इसके साथ ही कोर्ट ने याचिका को उचित आदेश पारित करने के लिए मुख्य न्यायाधीश के एम जोसेफ के सामने पेश करने के भी निर्देश दिए हैं। 

ये भी पढ़ें - उपनल के जरिए होने वाली भर्ती में बड़ा गड़बड़झाला, विधानसभाध्यक्ष के बेटे को नियम विरुद्ध दी गई नौकरी

गौरतलब है कि राज्य में ऋषिकेश और हरिद्वार में गंगा प्रदूषण की काफी शिकायतें आई हैं। इनमें कहा गया है कि गंगा में रोजाना सीवर के पानी को गिराने का सिलसिला अब भी जारी है। ऐसे में अब कोर्ट ने इस मामले में खुद ही संज्ञान लिया है और इस सिलसिले में केन्द्र और राज्य दोनों सरकारों के साथ संबंधित एजेंसियों को नोटिस जारी किया है। 


यहां बता दें कि गंगा को स्वच्छ रखने के लिए हाईकोर्ट और ट्रिब्यूनल ने कई आदेश पारित किए हैं। कई योजनाएं भी चल रही हैं लेकिन गंगा में प्रदूषण पर रोक नहीं लग पाई है। प्रदेश सरकार और संबंधित विभाग इस मामले में प्रभावी कदम नहीं उठा रहे हैं। गंगा को स्वच्छ रखने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नमामि गंगे योजना बनाई है। 17 अप्रैल 2017 को इसका बाकायदा गजट नोटिफिकेशन जारी किया था। इसके आधार बनी कमेटियां अपने दायित्व का सही तरीके से निर्वहन नहीं कर रही हैं।

Todays Beets: