Thursday, July 19, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

उत्तराखंड में अब नहीं होगी रिवर राफ्टिंग और पैराग्लाइडिंग, हाईकोर्ट ने लगाई रोक 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड में अब नहीं होगी रिवर राफ्टिंग और पैराग्लाइडिंग, हाईकोर्ट ने लगाई रोक 

नैनीताल। रोमांच और साहसिक खेलों के शौकीन लोगों के लिए बुरी खबर है। उत्तराखंड में अब रिवर राफ्टिंग और पैराग्लाइडिंग के अलावा अन्य जल खेल नहीं होंगे। नैनीताल हाईकोर्ट ने 2 सप्ताह के अंदर इन खेलों के लिए उचित नियम और नीति तैयार करने के निर्देश देते हुए इन पर फिलहाल रोक लगा दी है। ऋषिकेश निवासी हरिओम कश्यप द्वारा हाईकोर्ट में दायर जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए वरिष्ठ न्यायमूर्ति राजीव शर्मा और न्यायमूर्ति लोकपाल सिंह की खंडपीठ ने यह फैसला दिया है। 

गौरतलब है कि हरियोम कश्यप ने अपनी याचिका में कहा था कि सरकार ने 2014 में भगवती काला एवं वीरेंद्र सिंह गुसाईं को राफ्टिंग कैंप लगाने के लिए कुछ शर्तों के साथ लाईसेंस दिया था। इन लोगों ने शर्तों का उल्लंघन करते हुए राफ्टिंग के नाम पर गंगा नदी के किनारे कैंप लगाने शुरू कर दिए। गंगा नदी के किनारे मांस मदिरा का सेवन, डीजे बजाना आम हो गया। गंदा पानी और कूड़ा आदि भी नदी में डाला जा रहा है।

ये भी पढ़ें - अल्मोड़ा का ‘लक्ष्य’ बना विराट कोहली क्लब का सदस्य, 2020 ओलंपिक की होगी तैयारी 


यहां बता दें कि जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने सरकार को इस बात के निर्देश दिए हैं कि वह नदी के किनारे उचित शुल्क के बिना लाइसेंस जारी नहीं कर सकती। कोर्ट ने सख्त रुख अपनाते हुए कहा कि खेल गतिविधियों के नाम पर अय्याशी करने की इजाजत नहीं दी जा सकती है। राफ्टिंग कैंपों के संचालन की नदी किनारे स्वीकृति देने से नदियों का पर्यावरण दूषित हो रहा है। कोर्ट ने सरकार को रिवर राफ्टिंग, पैराग्लाइडिंग और अन्य जल खेलों के लिए उचित कानून बनाने का आदेश दिया है। इसके साथ ही यह भी कहा कि जब तक कानून नहीं बनता तब तक इन सब की अनुमति न दी जाए। 

Todays Beets: