Friday, July 20, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

हाईकोर्ट ने सरकार को दिया बड़ा झटका, शिक्षा विभाग में बैकलाॅग को दो महीने में भरने के दिए आदेश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हाईकोर्ट ने सरकार को दिया बड़ा झटका, शिक्षा विभाग में बैकलाॅग को दो महीने में भरने के दिए आदेश

नैनीताल। नैनीताल हाईकोर्ट ने शिक्षा विभाग को एक बड़ा झटका दिया है। कोर्ट ने सरकार को प्राथमिक सहायक अध्यापक के खाली पड़े पदों पर नियुक्ति प्रक्रिया जल्द शुरू करने और बैकलाॅग को दो महीने के अंदर भरने के आदेश दिए हैं। हाईकोर्ट ने इस बात को साफ कर दिया है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार रिक्त पदों पर कार्यरत शिक्षा आचार्य व शिक्षामित्रों को शिक्षक बनने के लिए दो अवसर मिलेंगे। कोर्ट ने इस संबंध में सरकार और अन्य द्वारा दायर विशेष अपीलों को निस्तारित कर दिया।

खाली पदों को भरने के निर्देश

आपको बता दें कि बीएड टीईटी पास अभ्यर्थियों ने याचिका दायर कर कहा था कि योग्य होने के बाद भी खाली पड़े पदों पर उनकी नियुक्ति नहीं की जा रही है। सरकार ने उन्हें नियुक्ति देने के बजाय शिक्षामित्र एवं शिक्षा आचार्यों को रिक्त पदों पर नियुक्ति दे दी। इस मामले की सुनवाई करते हुए एकलपीठ ने शिक्षा आचार्य एवं शिक्षा मित्र के पदों को रिक्त मानते हुए नियुक्ति के आदेश पारित किए थे। 

ये भी पढ़ें - अभद्रता मामले में शिक्षिका का समर्थन करने वाले शिक्षकों से मंत्री ने कहा-काली पट्टी बांधो या ...


विशेष अपील हुई खारिज

गौरतलब है कि एकलपीठ के इस फैसले के खिलाफ राज्य सरकार, मनोज कुमार समेत अन्य ने विशेष अपील दायर की। इसके बाद न्यायाधीश न्यायामूर्ति राजीव शर्मा और न्यायमूर्ति शरद शर्मा की खंडपीठ ने सुनवाई करते हुए सरकार द्वारा दायर विशेष अपील को निस्तारित करते हुए एकलपीठ के आदेश को बरकरार रखा और एकलपीठ के बैकलॉग के पदों को भरने के आदेश को सही ठहराया। खंडपीठ ने दो महीने के अंदर बैकलॉग के खाली पदों को भरने का आदेश पारित किए। याचिकाकर्ता के वकील विनय कुमार ने कहा कि राज्य में एसटी के 200 से अधिक जबकि एससी के करीब 1000 पद बैकलॉग से भरे जाने हैं। यहां उल्लेखनीय है सुप्रीम कोर्ट ने शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अंतर्गत प्राथमिक शिक्षक बनने के लिए टीईटी अनिवार्य कर दिया है। 

Todays Beets: