Friday, January 19, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

हाईकोर्ट ने सरकार को दिया बड़ा झटका, शिक्षा विभाग में बैकलाॅग को दो महीने में भरने के दिए आदेश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हाईकोर्ट ने सरकार को दिया बड़ा झटका, शिक्षा विभाग में बैकलाॅग को दो महीने में भरने के दिए आदेश

नैनीताल। नैनीताल हाईकोर्ट ने शिक्षा विभाग को एक बड़ा झटका दिया है। कोर्ट ने सरकार को प्राथमिक सहायक अध्यापक के खाली पड़े पदों पर नियुक्ति प्रक्रिया जल्द शुरू करने और बैकलाॅग को दो महीने के अंदर भरने के आदेश दिए हैं। हाईकोर्ट ने इस बात को साफ कर दिया है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार रिक्त पदों पर कार्यरत शिक्षा आचार्य व शिक्षामित्रों को शिक्षक बनने के लिए दो अवसर मिलेंगे। कोर्ट ने इस संबंध में सरकार और अन्य द्वारा दायर विशेष अपीलों को निस्तारित कर दिया।

खाली पदों को भरने के निर्देश

आपको बता दें कि बीएड टीईटी पास अभ्यर्थियों ने याचिका दायर कर कहा था कि योग्य होने के बाद भी खाली पड़े पदों पर उनकी नियुक्ति नहीं की जा रही है। सरकार ने उन्हें नियुक्ति देने के बजाय शिक्षामित्र एवं शिक्षा आचार्यों को रिक्त पदों पर नियुक्ति दे दी। इस मामले की सुनवाई करते हुए एकलपीठ ने शिक्षा आचार्य एवं शिक्षा मित्र के पदों को रिक्त मानते हुए नियुक्ति के आदेश पारित किए थे। 

ये भी पढ़ें - अभद्रता मामले में शिक्षिका का समर्थन करने वाले शिक्षकों से मंत्री ने कहा-काली पट्टी बांधो या ...


विशेष अपील हुई खारिज

गौरतलब है कि एकलपीठ के इस फैसले के खिलाफ राज्य सरकार, मनोज कुमार समेत अन्य ने विशेष अपील दायर की। इसके बाद न्यायाधीश न्यायामूर्ति राजीव शर्मा और न्यायमूर्ति शरद शर्मा की खंडपीठ ने सुनवाई करते हुए सरकार द्वारा दायर विशेष अपील को निस्तारित करते हुए एकलपीठ के आदेश को बरकरार रखा और एकलपीठ के बैकलॉग के पदों को भरने के आदेश को सही ठहराया। खंडपीठ ने दो महीने के अंदर बैकलॉग के खाली पदों को भरने का आदेश पारित किए। याचिकाकर्ता के वकील विनय कुमार ने कहा कि राज्य में एसटी के 200 से अधिक जबकि एससी के करीब 1000 पद बैकलॉग से भरे जाने हैं। यहां उल्लेखनीय है सुप्रीम कोर्ट ने शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अंतर्गत प्राथमिक शिक्षक बनने के लिए टीईटी अनिवार्य कर दिया है। 

Todays Beets: