Monday, September 24, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

गोमुख में बनी झील और जमा मलबे पर हाईकोर्ट सख्त, कहा-हर 3 महीनों में रिपोर्ट देनी होगी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
गोमुख में बनी झील और जमा मलबे पर हाईकोर्ट सख्त, कहा-हर 3 महीनों में रिपोर्ट देनी होगी

देहरादून। गोमुख में बने अस्थाई झील और वहां जमा मलबे पर हाईकोर्ट ने सख्त रुख अपनाया है। कोर्ट ने वाडिया शोध संस्थान के वैज्ञानिकों को इसरो की मदद से वहां का दौरा कर हर 3 महीने में रिपोर्ट देने के लिए कहा है। बता दें कि दिल्ली के निवासी अजय गौतम ने इस मामले को लेकर हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। न्यायमूर्ति के एम जोसफ और न्यायमूर्ति शरद कुमार शर्मा ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि अगर वहां अस्थाई झील तैयार हुई है और मलबा जमा हुआ है तो इसे वैकल्पिक तरीके से हटाया जाना चाहिए। 

गौरतलब है कि पिछले साल ही गोमुख के करीब ग्लेशियर का एक बड़ा हिस्सा टूट गया था जिसके बाद वहां अस्थाई झील का निर्माण हो गया था। गर्मी की शुरुआत के बाद झील तो सूख गई लेकिन पानी की वजह से बने गड्ढे और वहां जमा हुए मलबे ने राज्य की मुसीबतें और बढ़ा दी है। याचिकाकर्ता ने कहा था कि इससे केदारनाथ की जैसी आपदा हो सकती है। 

ये भी पढ़ें - प्रवासी पक्षियों का आसन वेटलैंड से हो रहा मोहभंग, मानवीय दखल के चलते घट रही तादाद 


यहां बता दें कि याचिकाकर्ता ने कहा कि उस समय झील का निरीक्षण व सर्वेक्षण किया गया जब झील पूरी तरह बर्फ से ढंकी हुई थी जबकि सही मायनों में निरीक्षण मई-जून में किया जाना चाहिए था। अजय गौतम की याचिका में कहा गया था कि ग्लेशियर के पिघलने से वहां झील बन गई थी और इससे गंगा के अस्तित्व पर खतरा पैदा हो गया है। कोर्ट ने वैज्ञानिकों को हर 3 महीनों में गोमुख का दौरा कर रिपोर्ट पेश करने के निर्देश दिए हैं।  

Todays Beets: