Wednesday, December 19, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

हाईकोर्ट ने सरकारी महिला कर्मियों को दी बड़ी राहत, अब तीसरे बच्चे के जन्म पर भी मिलेगा मातृत्व अवकाश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हाईकोर्ट ने सरकारी महिला कर्मियों को दी बड़ी राहत, अब तीसरे बच्चे के जन्म पर भी मिलेगा मातृत्व अवकाश

नैनीताल। उत्तराखंड हाईकोर्ट ने सरकार को निर्देश देते हुए कहा है कि महिला सरकारी कर्मचारियों को उनके तीसरे बच्चे के जन्म पर भी मातृत्व अवकाश दिया जाए। कोर्ट ने तीसरे बच्चे के जन्म पर मातृत्व अवकाश न देने वाले नियम को असंवैधानिक बताया है। बता दें कि हल्द्वानी की उर्मिला मनीष नाम की महिला ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कहा था कि तीसरे बच्चे के जन्म पर मातृत्व अवकाश न देने को संवैधानिक भावना के खिलाफ है। 

गौरतलब है कि सरकारी नियमों के अनुसार महिला सरकारी कर्मचारियों के तीसरे बच्चे के जन्म पर मातृत्व अवकाश नहीं देने का प्रावधान है लेकिन हाईकोर्ट में दायर याचिका पर सुनवाई करने के बाद कोर्ट पूरी तरह से महिला के पक्ष में आते हुए कहा कि तीसरे बच्चे के जन्म पर मातृत्व अवकाश न दिया जाने वाला नियम ही असंवैधानिक है। न्यायमूर्ति राजीव शर्मा की एकलपीठ ने कहा कि महिला को उसके तीसरे बच्चे के लिये मातृत्व अवकाश देने से इनकार करना संविधान की भावना के खिलाफ है।

ये भी पढ़ें - राज्य सरकार ने शुरू किया स्टार्ट अप पोर्टल, 7 कंपनियों को दी मान्यता


यहां बता दें कि उत्तराखंड द्वारा अपनाए गए उत्तर प्रदेश मौलिक नियमों की वित्तीय पुस्तिका के मौलिक नियम 153 के दूसरे प्रावधान में किसी महिला सरकारी कर्मचारी को तीसरे बच्चे के लिए मातृत्व अवकाश से इंकार किया गया है। गौर करने वाली बात है कि अदालत ने 30 जुलाई को दिए गए फैसले में कहा था कि महिला को तीसरे बच्चे के जन्म पर मातृत्व अवकाश नहीं देने वाले नियम को खत्म कर देना चाहिए क्योंकि यह संविधान के अनुच्छेद 42 और मातृत्व लाभ अधिनियम, 1961 की धारा 27 के खिलाफ है। कोर्ट ने कहा कि मानवीय आधार पर मातृत्व अवकाश दिया जाना चाहिए। 

 

Todays Beets: