Wednesday, October 17, 2018

Breaking News

   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||   सुप्रीम कोर्ट ने कठुआ मामले में सीबीआई जांच की अर्जी को खारिज किया    ||   मध्यप्रदेश सरकार ने पांच नए सूचना आयुक्त चुने, राज्यपाल को भेजी सिफारिश     ||   बिहार: ASI संग शराब बेच रहा था थानेदार, अरेस्ट     ||

हाईकोर्ट ने सरकारी महिला कर्मियों को दी बड़ी राहत, अब तीसरे बच्चे के जन्म पर भी मिलेगा मातृत्व अवकाश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हाईकोर्ट ने सरकारी महिला कर्मियों को दी बड़ी राहत, अब तीसरे बच्चे के जन्म पर भी मिलेगा मातृत्व अवकाश

नैनीताल। उत्तराखंड हाईकोर्ट ने सरकार को निर्देश देते हुए कहा है कि महिला सरकारी कर्मचारियों को उनके तीसरे बच्चे के जन्म पर भी मातृत्व अवकाश दिया जाए। कोर्ट ने तीसरे बच्चे के जन्म पर मातृत्व अवकाश न देने वाले नियम को असंवैधानिक बताया है। बता दें कि हल्द्वानी की उर्मिला मनीष नाम की महिला ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कहा था कि तीसरे बच्चे के जन्म पर मातृत्व अवकाश न देने को संवैधानिक भावना के खिलाफ है। 

गौरतलब है कि सरकारी नियमों के अनुसार महिला सरकारी कर्मचारियों के तीसरे बच्चे के जन्म पर मातृत्व अवकाश नहीं देने का प्रावधान है लेकिन हाईकोर्ट में दायर याचिका पर सुनवाई करने के बाद कोर्ट पूरी तरह से महिला के पक्ष में आते हुए कहा कि तीसरे बच्चे के जन्म पर मातृत्व अवकाश न दिया जाने वाला नियम ही असंवैधानिक है। न्यायमूर्ति राजीव शर्मा की एकलपीठ ने कहा कि महिला को उसके तीसरे बच्चे के लिये मातृत्व अवकाश देने से इनकार करना संविधान की भावना के खिलाफ है।

ये भी पढ़ें - राज्य सरकार ने शुरू किया स्टार्ट अप पोर्टल, 7 कंपनियों को दी मान्यता


यहां बता दें कि उत्तराखंड द्वारा अपनाए गए उत्तर प्रदेश मौलिक नियमों की वित्तीय पुस्तिका के मौलिक नियम 153 के दूसरे प्रावधान में किसी महिला सरकारी कर्मचारी को तीसरे बच्चे के लिए मातृत्व अवकाश से इंकार किया गया है। गौर करने वाली बात है कि अदालत ने 30 जुलाई को दिए गए फैसले में कहा था कि महिला को तीसरे बच्चे के जन्म पर मातृत्व अवकाश नहीं देने वाले नियम को खत्म कर देना चाहिए क्योंकि यह संविधान के अनुच्छेद 42 और मातृत्व लाभ अधिनियम, 1961 की धारा 27 के खिलाफ है। कोर्ट ने कहा कि मानवीय आधार पर मातृत्व अवकाश दिया जाना चाहिए। 

 

Todays Beets: