Sunday, May 26, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

एचएनबी विश्वविद्यालय के कुलपति की बढ़ी मुश्किलें, हाईकोर्ट ने भेजा अवमानना का नोटिस 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
एचएनबी विश्वविद्यालय के कुलपति की बढ़ी मुश्किलें, हाईकोर्ट ने भेजा अवमानना का नोटिस 

नैनीताल। नैनीताल हाईकोर्ट ने एचएनबी गढ़वाल केंद्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति को अवमानना नोटिस जारी किया है। अदालत ने पहले लगाई गई रोक के बावजूद विश्वविद्यालय की ओर से पत्र जारी किए जाने के मामले में स्वतः संज्ञान लेते हुए यह नोटिस जारी किया है। बता दें कि दून बिजनेस स्कूल ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर कहा था कि एचएनबी गढ़वाल विश्वविद्यालय की अधिसूचना के तहत 2009 के बाद नए पाठ्यक्रम एवं बढ़ाए गए पाठ्यक्रमों की संबद्धता को वापस ले लिया गया था। कोर्ट ने यूनिवर्सिटी के इस आदेश पर रोक लगा दी थी।

गौरतलब है कि देहरादून बिजनेस स्कूल ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर कहा था कि 12 मई 2018 को एचएनबी गढ़वाल विश्वविद्यालय की कार्य परिषद ने निर्णय लिया था कि 2009 के बाद जो नए कोर्स लिए गए हैं उनकी संबद्धता के संबंध में पारित 20 मार्च 2018 के अधिसूचना को वापस ले लिया जाए। इस याचिका के बाद विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार एके झा ने 7 जून 2018 को एक पत्र जारी कर सूचित किया कि कोई भी संस्थान 2009 के बाद दी गई संबद्धता के आधार पर प्रवेश नहीं लेगा। 


ये भी पढ़ें - अतिथि शिक्षकों ने एक बार फिर सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा, आंदोलन की दी चेतावनी

यहां बता दें कि याचिकाकर्ता की ओर से इन पत्रों को हाईकोर्ट में चुनौती देते हुए इस पर रोक लगाने की मांग की गई थी। इसके बाद कोर्ट ने इस तथ्य का स्वतः संज्ञान लिया कि पूर्व में रोक के बाद भी विश्वविद्यालय की ओर से ऐसा पत्र जारी किया जाना कोर्ट की अवमानना है।

Todays Beets: