Tuesday, December 11, 2018

Breaking News

   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||    दिल्ली: TDP नेता वाईएस चौधरी को HC से राहत, गिरफ्तारी पर रोक     ||    पूर्व क्रिकेटर अजहर तेलंगाना कांग्रेस समिति के कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए     ||   किसानों को कांग्रेस ने मजबूर और बीजेपी ने मजबूत बनाया: PM मोदी     ||

बाघों की हत्या पर हाईकोर्ट सख्त, केन्द्र और राज्य सरकार से 6 सप्ताह के अंदर मांगा जवाब

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बाघों की हत्या पर हाईकोर्ट सख्त, केन्द्र और राज्य सरकार से 6 सप्ताह के अंदर मांगा जवाब

नैनीताल। राज्य के जिम काॅर्बेट नेशनल पार्क में बाघों की लगातार हो रही हत्या पर हाईकोर्ट सख्त हो गया है। इस मामले में दायर एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने सरकार से 6 सप्ताह के अंदर जवाब मांगा है। आपको बता दें कि मुख्य न्यायाधीश केएम जोसफ व न्यायाधीश यूसी ध्यानी के खंडपीठ ने सुनवाई की। 

बाघों की अवैध हत्याएं

गौरतलब है कि ऑपरेशन आई ऑफ टाइगर इंडिया नामक की एक संस्था ने हाई कोर्ट में जनहित याचिका दायर कर कहा है कि कॉर्बेट नेशनल पार्क में पिछले कई वर्षों से लगातार बाघों की अवैध रूप से हत्याएं की जा रही हैं। 2016 में भी 5 बाघों की खाल पुलिस ने बरामद की थी। बता दें कि अंतरराष्ट्रीय बाजारों में बाघ की खाल की तस्करी की जा रही है और इनकी कीमत लाखों में होती है।

ये भी पढ़ें - सीएम आवास पर आत्मदाह करने जा रहे ट्रांसपोर्टर को पुलिस ने धरा, कारोबार में हुआ नुकसान


सरकार से मांगा जवाब

आपको बता दें कि संस्था द्वारा दायर याचिका में कहा गया कि सरकार वन्यजीवों के संरक्षण के लिए ठोस कदम नहीं उठा रही है। यही वजह है कि उनका अवैध शिकार किया जा रहा है। इस मामले की सुनवाई करने के बाद कोर्ट की संयुक्त पीठ ने केन्द्र सरकार और राज्य सरकार से 6 सप्ताह के अंदर जवाब मंागा है। अब इस मामले पर अगली सुनवाई सर्दियों की छुट्टियों के बाद की जाएगी।

 

Todays Beets: