Monday, December 17, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

अब उच्च शिक्षा से जुड़े शिक्षकों ने सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा, किया कार्य बहिष्कार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब उच्च शिक्षा से जुड़े शिक्षकों ने सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा, किया कार्य बहिष्कार

नैनीताल।  सातवें वेतनमान का लाभ नहीं मिलने पर डीएसबी परिसर के प्राध्यापकों ने भी मोर्चा खोल दिया है। उत्तराखंड राज्य विश्वविद्यालय, महाविद्यालय शिक्षक संघ के आह्वान पर परिसर के प्राध्यापकों ने एक दिवसीय कार्यबहिष्कार कर दिया। शिक्षक संघ का कहना है कि केन्द्रीय विश्वविद्यालयों और दूसरे राज्यों के शिक्षकों को सातवें वेतनमान का लाभ मिल चुका है लेकिन उन्हें अभी तक इसका फायदा नहीं मिला है। संघ ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा वित्तमंत्री के संज्ञान में मामले को लाने के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं हुई। 

गौरतलब है कि प्राध्यापकों ने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि संगठन की आगामी रणनीति तय करने को लेकर अन्य विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों के शिक्षकों के साथ बैठक की जाएगी। शिक्षक संघ ने उच्च शिक्षा में 10 साल पूरे कर चुके शिक्षकों को हायर एकेडमिक ग्रेड (एचएजी) का लाभ, प्रोत्साहन भत्ते के एरियर का भी नहीं मिल पा रहा है।

ये भी पढ़ें - स्वामी शिवानंद ने सानंद की मौत को बताया हत्या, केंद्रीय मंत्री को गिरफ्तार करने की मांग


यहां बता दें कि प्राध्यापकों के कार्यबहिष्कार पर एबीवीपी विभाग संयोजक मोहित रौतेला ने कहा कि शिक्षकों की मांग जायज है लेकिन परिसर में शिक्षण कार्य बाधित होने से विद्यार्थियों को परेशानी हो रही है। गुरुवार को कई छात्रों को वापस लौटना पड़ा। उन्होंने कहा कि सरकार को विद्यार्थियों के भविष्य को ध्यान में रखकर शिक्षकों की मांगों पर सकारात्मक कार्रवाई करनी चाहिए।

Todays Beets: