Saturday, December 15, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

मरीजों को अब बार-बार नहीं आना पड़ेगा अस्पताल, जरूरी दवाओं की होगी ‘होम डिलीवरी’

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मरीजों को अब बार-बार नहीं आना पड़ेगा अस्पताल, जरूरी दवाओं की होगी ‘होम डिलीवरी’

देहरादून। उत्तराखंड सरकार राज्य में स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने भरपूर प्रयास कर रही है। अब रक्तचाप और शुगर जैसी बीमारियों की दवाई लेने वाले मरीजों को बार-बार अस्पताल आने की जरूरत नहीं होगी। सरकार नियमित रूप से दवाई खाने वाले मरीजों का सर्वे कर उन्हें डाक और दूसरे माध्यमों से घर पर ही दवाई उपलब्ध कराएगी। सरकार की इस योजना का लाभ राज्य के लाखों लोगों को मिलेगा। 

गौरतलब है कि सरकार राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) के तहत तैयार की जाने वाली इस योजना में पहले फैमिली हेल्थ का सर्वे कराया जाएगा। इस सर्वे के तहत राज्य के हर परिवार का डेटा बेस तैयार होगा। इसके आधार पर अलग-अलग बीमारियों के मरीजों का चार्ट तैयार होगा। जिससे सरकार को यह पता चल सके कि राज्य में किस बीमारी के कितने मरीज हैं। इस सर्वे के आधार पर सरकार स्वास्थ्य की प्राथमिकताएं भी तय कर सकेगी। सामान्य बीमारियों के डाटा के साथ ही इससे डेंगू, मलेरिया और स्वाइन फ्लू जैसी संक्रामक बीमारियों के आंकड़े भी सामने आएंगे। 

ये भी पढ़ें - कैलास मानसरोवर जाने वाले श्रद्धालु पहली बार कर सकेंगे हेली सर्विस का इस्तेमाल, खर्चे पर असमंज...


यहां गौर करने वाली बात है कि सरकार की तरफ से यूनिवर्सल कार्ड योजना शुरू की जा रही है जिससे करीब 22 लाख लोगों को इसका फायदा मिलेगा। वहीं आयुष्मान भारत योजना के तहत बीपीएल परिवारों को 5 लाख तक का स्वास्थ्य बीमा मिलेगा। इसके अलावा राज्य सरकार भी लोगों को अपनी तरफ से बीमा सुविधा देगी लेकिन अभी उसकी राशि तय नहीं की गई है। अब मरीजों का सर्वे कराने के बाद उनके लिए ई-कार्ड तैयार किया जाएगा इसके बाद एनएचएम के तहत इन सभी मरीजों को उनके घरों पर ही दवाई पहुंचाने का काम शुरू किया जाएगा। 

 

Todays Beets: