Monday, September 24, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

मरीजों को अब बार-बार नहीं आना पड़ेगा अस्पताल, जरूरी दवाओं की होगी ‘होम डिलीवरी’

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मरीजों को अब बार-बार नहीं आना पड़ेगा अस्पताल, जरूरी दवाओं की होगी ‘होम डिलीवरी’

देहरादून। उत्तराखंड सरकार राज्य में स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने भरपूर प्रयास कर रही है। अब रक्तचाप और शुगर जैसी बीमारियों की दवाई लेने वाले मरीजों को बार-बार अस्पताल आने की जरूरत नहीं होगी। सरकार नियमित रूप से दवाई खाने वाले मरीजों का सर्वे कर उन्हें डाक और दूसरे माध्यमों से घर पर ही दवाई उपलब्ध कराएगी। सरकार की इस योजना का लाभ राज्य के लाखों लोगों को मिलेगा। 

गौरतलब है कि सरकार राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) के तहत तैयार की जाने वाली इस योजना में पहले फैमिली हेल्थ का सर्वे कराया जाएगा। इस सर्वे के तहत राज्य के हर परिवार का डेटा बेस तैयार होगा। इसके आधार पर अलग-अलग बीमारियों के मरीजों का चार्ट तैयार होगा। जिससे सरकार को यह पता चल सके कि राज्य में किस बीमारी के कितने मरीज हैं। इस सर्वे के आधार पर सरकार स्वास्थ्य की प्राथमिकताएं भी तय कर सकेगी। सामान्य बीमारियों के डाटा के साथ ही इससे डेंगू, मलेरिया और स्वाइन फ्लू जैसी संक्रामक बीमारियों के आंकड़े भी सामने आएंगे। 

ये भी पढ़ें - कैलास मानसरोवर जाने वाले श्रद्धालु पहली बार कर सकेंगे हेली सर्विस का इस्तेमाल, खर्चे पर असमंज...


यहां गौर करने वाली बात है कि सरकार की तरफ से यूनिवर्सल कार्ड योजना शुरू की जा रही है जिससे करीब 22 लाख लोगों को इसका फायदा मिलेगा। वहीं आयुष्मान भारत योजना के तहत बीपीएल परिवारों को 5 लाख तक का स्वास्थ्य बीमा मिलेगा। इसके अलावा राज्य सरकार भी लोगों को अपनी तरफ से बीमा सुविधा देगी लेकिन अभी उसकी राशि तय नहीं की गई है। अब मरीजों का सर्वे कराने के बाद उनके लिए ई-कार्ड तैयार किया जाएगा इसके बाद एनएचएम के तहत इन सभी मरीजों को उनके घरों पर ही दवाई पहुंचाने का काम शुरू किया जाएगा। 

 

Todays Beets: